DA Image
28 जनवरी, 2020|5:36|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जब सड़क पर लड़ने लगे दो सांड, तो कोई पहुंचा अस्पताल और कोई...

 bull fight

उत्तर प्रदेश के कानपुर में सांड़ के हमले से आए दिन लोग घायल हो रहे हैं। सोमवार दोपहर भी नौबस्ता चौराहे के पास दो सांड़ लड़ते हुए एकाएक कार से टकरा गए और किनारे पर खड़े बुजुर्ग सहित दो को सींग से पटक दिया। दुकानदार और चौराहे पर तैनात सिपाहियों ने सांड़ को खदेड़कर दोनों को बचाया। ज्यादा चोटें न आने पर दोनों चले गए।

चौराहे पर चाय की दुकान लगाए राज और उसके साथी सोनू ने बताया कि चौराहे पर हर रोज सांड़ का झुंड रहता है। सांड़ कई बार दुकान के बाहर खड़े वाहन और ठेलियों को नुकसान पहुंचा चुके हैं। दुकानदार नगर निगम अधिकारियों से कैटल कैचिंग भिजवाने और सांड़ को पकड़वाने के लिए शिकायत भी कर चुके हैं,लेकिन कोई गाड़ी नहीं आई। सोमवार दोपहर चौराहे के पास ही दो सांड़ फिर लड़ने लगे। 

शादी को लेकर सर्वे आया सामाने,जानें किस बात का पति-पत्नी को लगता है डर

 bull fight

कुछ लोगों ने डंडे से उन्हें हटाने का प्रयास भी किया, लेकिन तभी सांड़ लड़ते-लड़ते एक कार और बाइक से टकरा गए। इस बीच कार के पीछे मेडिकल स्टोर के पास खड़े एक बुजुर्ग और युवक जब तक कुछ समझ पाते सांड़ ने सींग से उन्हें उछाल दिया। दोनों गिरकर चुटहिल हुए तो ट्रैफिक सिपाही और दुकानदारों ने डंडे से सांड़ों को काफी दूर तक खदेड़ लिया, जिसके बाद लोगों को बचाया गया। उन्हें ज्यादा चोटें न आने से वो लोग वहां से चले गए।

सुरक्षित नहीं सफर, शहर में पहले भी सांड़ कर चुके हमला

- नवंबर में सांड़ ने बर्रा अंधाकुआं के पास बुजुर्ग को किया घायल 
- सितंबर में बर्रा दो निवासी बुजुर्ग एसके गुप्ता को सांड़ ने किया लहूलुहान 
- 23 अगस्त को बर्रा दो निवासी 65 वर्षीय श्यामू तिवारी की सांड के हमले मे गई जान 
- 21 अगस्त को रिटायर रेलवेकर्मी एसपी विश्वकर्मा को भी सांड़ ने पटका 
- नौबस्ता में स्वतंत्रता सेनानी को भी सांड़ ने पटका था, इलाज के दौरान उनकी मौत 
- 15 मार्च को बाबूपुरवा निवासी बुजुर्ग फखर्रुजमा को बाकरगंज चौराहे के पास सांड़ ने पटका था, जिनकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:When two bulls started fighting on the road some reached the hospital and some