DA Image
2 अप्रैल, 2020|6:21|IST

अगली स्टोरी

लॉकडाउन में एक साल के बेटे के इलाज के लिए जब मां पैदल चली गई 30 किमी

morning walk

कोरोनावायरस के संक्रमण को रोकने के लिए किए गए लॉकडाउन की वजह से अपने बीमार एक साल के मासूम बेटे के इलाज के लिए एक महिला गुरुवार को तीस किलोमीटर पैदल चलकर अस्पताल पहुंची। चित्रकूट जिले के ऐंचवारा गांव की रहने वाली महिला माया देवी अपने पूरे परिवार के साथ मध्य प्रदेश के गुप्तगोदावरी के पास रहती है। दो दिन से उसके एक साल के बेटे की तबियत खराब चल रही थी। 

गुरुवार की तड़के जब ज्यादा तबियत खराब हुई तो महिला इलाज कराने के लिए गुप्तगोदावरी से चित्रकूट की तीस किलोमीटर की दूरी पैदल चलकर  कर्वी आयी और एक निजी अस्पताल में अपने बेटे का इलाज करवाया। 

माया देवी ने शुक्रवार को बताया कि उसके बेटे की तबियत बहुत ज्यादा खराब थी। गुरुवार तड़के जब बेटे गुप्तगोदावरी से पैदल चली तो रास्ते में कोई वाहन नहीं मिला। कई पुलिसकर्मियों से मदद की गुहार लगाई लेकिन लॉक डाउन की वजह से किसी ने मदद नहीं की। उसने बताया कि चित्रकूट पहुंचकर बच्चे का इलाज करवाया है, अब बच्चे की तबियत काफी ठीक है।

उप्र के लोगों की मदद के लिए दिल्ली स्थित उप्र भवन में कंट्रोल रूम

लॉकडाउन के दौरान दिल्ली में फंसे उत्तर प्रदेश के लोगों की मदद के लिए यहां स्थित उप्र भवन में एक कंट्रोल रूम बनाया गया है। यह चौबीसों घंटे काम करेगा। कंट्रोल रूम के जरिए जरूरतमंदों को हरसंभव मदद करने का भरोसा दिया गया है। उत्तर प्रदेश के स्थानीय आयुक्त प्रभात कुमार सारंगी ने बताया कि कोरोनावायरस के कारण हुए लॉकडाउन से उत्पन्न परिस्थितियों की वजह से नई दिल्ली स्थित उत्तर प्रदेश भवन में एक कंट्रोल रूम बनाया गया है, जो 24 घंटे काम करेगा। 

उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश के निवासियों, जिन्हें किसी भी प्रकार की समस्या है तो वह उत्तर प्रदेश भवन कंट्रोल रूम में दूरभाष संख्या - 011-26110151 से 26110155 और मोबाइल संख्या - 9313434088 पर सम्पर्क कर सकते हैं। प्रभात कुमार ने बताया है कि लोग व्हाटसएप कर अपनी समस्या से अवगत करा सकते है।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:When the mother walked 30 km for treatment a one-year-old son in lockdown