ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशएक ही स्कूल के 36 टीचरों की चली गई नौकरी, घोटाले पर HC के फैसले ने ली जॉब

एक ही स्कूल के 36 टीचरों की चली गई नौकरी, घोटाले पर HC के फैसले ने ली जॉब

शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में हाई कोर्ट ने एक झटके में 26000 शिक्षकों और गैर शिक्षकों को तत्काल नौकरी से निकालने के आदेश दे चुकी है। हाल ये है कई स्कूलों में बच्चों को पढ़ाने का संकट पैदा हो गया।

एक ही स्कूल के 36 टीचरों की चली गई नौकरी, घोटाले पर HC के फैसले ने ली जॉब
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,कोलकाताWed, 24 Apr 2024 12:44 PM
ऐप पर पढ़ें

पश्चिम बंगाल शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में कलकत्ता हाई कोर्ट ने एक झटके में 26000 शिक्षकों और गैर शिक्षकों को तत्काल नौकरी से निकालने के आदेश दे चुकी है। एक ही समय में प्रदेशभर में इतने बड़े पैमाने पर नौकरी चले जाने से शिक्षा विभाग के सामने स्कूलों को चलाने का गंभीर संकट खड़ा हो गया है। कई स्कूलों में एक साथ दर्जनों शिक्षकों की नौकरी चली गयी। मुर्शिदाबाद जिले के फरक्का में ऐसे कई स्कूल हैं जहां बड़े पैमाने पर शिक्षकों ने नौकरी खो दी है। अर्जुनपुर हायर सेकेंडरी स्कूल में एक साथ 36 टीचरों की नौकरी चली गई। स्कूल में बच्चों की तादाद 10 हजार से ज्यादा है।

कलकत्ता हाई कोर्ट के फैसले को अवैध बताते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सुप्रीम कोर्ट जाने की बात तो कह चुकी हैं लेकिन, अभी हाई कोर्ट के आदेश के बाद ताजा हालात बेहद चिंताजनक हैं। हाई कोर्ट ने अपने फैसले में ममता कैबिनेट पर सवाल उठाए थे और टिप्पणी की थी कि सरकार को भी इस पूरे घोटाले की जानकारी थी, इसके बावजूद यह सब किया गया। स्कूलों में बड़े पैमाने पर नौकरी चले जाने के बाद स्कूलों को चलाने का संकट पैदा हो गया है। 

स्कूल में एक साथ 36 टीचरों की चली गई नौकरी
मालूम हो कि मुर्शिदाबाद के फरक्का में हायर सेकेंडरी स्कूल में एक साथ 36 टीचरों की नौकरी चली गई है। स्कूल में छात्रों की संख्या 10 हजार से ज्यादा है। इस विद्यालय में शिक्षकों की कुल संख्या 60 थी। इनमें 7 सहायक अध्यापक हैं। हालाँकि, 36 शिक्षकों के हटने से इस स्कूल में अब शिक्षकों की संख्या 24 रह गई है। स्कूल प्रशासन के एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि इन 36 शिक्षकों में से 20 की सीधी भर्ती की गई और 16 का तबादला कर दिया गया था। अधिकारियों का मानना ​​है कि बचे हुए शिक्षकों के साथ स्कूल में पढ़ाना मुश्किल है। इस संबंध में स्कूल के प्रधान शिक्षक ने कहा कि 24 शिक्षकों के लिए 10,000 छात्रों को संभालना बहुत मुश्किल है। इससे स्कूल को काफी नुकसान होना तय है।

किसी स्कूल में 19 तो कहीं 17 ने एक साथ गंवाई नौकरी
सिर्फ इस स्कूल का ही नहीं फरक्का ब्लॉक के कई अन्य स्कूलों का भी यही हाल है। यहां के नयनसुख हायर सेकेंडरी स्कूल के 19 शिक्षकों और ग्रुप सी के एक कर्मचारी को अपनी नौकरी गंवानी पड़ी। इस विद्यालय में 55 शिक्षक थे। अब यह घटकर यह संख्या 36 हो गई है। यहां भी बच्चों की संख्या कई हजार है। अमतला हाई स्कूल के 17 शिक्षकों और एक गैर-शिक्षण कर्मचारियों ने अपनी नौकरी खो दी है। इसके अलावा, धर्मदंगा हायर सेकेंडरी स्कूल के 11 शिक्षक, निशिंद्र हायर सेकेंडरी स्कूल के 9 शिक्षक और एक गैर-शिक्षण कर्मचारी और तिलडांगा हायर सेकेंडरी स्कूल के 5 ने अपनी नौकरी खो दी। न्यू फरक्का हाई स्कूल में 11 शिक्षकों की नौकरी चली गयी है।