DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › सिर्फ अगस्त में बंगाल में 200 रेप और 600 से अधिक अपहरण की घटनाएं: राज्यपाल जगदीप धनखड़
देश

सिर्फ अगस्त में बंगाल में 200 रेप और 600 से अधिक अपहरण की घटनाएं: राज्यपाल जगदीप धनखड़

लाइव हिन्दुस्तान टीम,कोलकाताPublished By: Shankar Pandit
Wed, 07 Oct 2020 05:40 AM
1 / 2
West Bengal governor Jagdeep Dhankhar will meet Union home minister Amit Shah in Delhi on Friday.(HT PHOTO.)
2 / 2West Bengal governor Jagdeep Dhankhar will meet Union home minister Amit Shah in Delhi on Friday.(HT PHOTO.)

पश्चिम बंगाल की ममता सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने दावा किया है कि सिर्फ अगस्त महीने में बंगाल में 200 से अधिक बलात्कार और करीब 600 से अधिक अपहरण की घटनाएं हुई हैं। राज्यपाल के इस ट्वीट के बाद राजभवन और तृणमूल कांग्रेस सरकार के बीच पश्चिम बंगाल में बलात्कार और अपहरण की घटनाओं के आंकड़ों को लेकर तलवारें खिंच गयी हैं। इस मामले में राज्य का गृह विभाग राज्यपाल जगदीप धनखड़ द्वारा दिए गए आंकड़ों की सत्यता पर सवाल उठा रहा है।

तमाम मुद्दों को लेकर राज्य सरकार से लंबे समय से उलझे राज्यपाल धनखड़ ने मंगलवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से अनुरोध किया कि वह 'दूसरी जगहों पर आग को हवा देने से पहले कानून-व्यवस्था को दुरुस्त करें।' उन्होंने राज्य में आगस्त महीने में हुए बलात्कार और अपहरण की घटनाओं के आंकड़े भी ट्वीट किए हैं।

धनखड़ ने ट्वीट किया, 'मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, आधिकारिक रिपोर्ट के अनुसार अगस्त 2020 में बलात्कार-223, अपहरण-639 की घटनाएं महिलाओं के खिलाफ अपराध की चिंताजनक स्थिति को दर्शाती हैं और यह चिंता का विषय है। वक्त आ गया है कि अपने घर में लगी आग बुझाई जाये और कहीं और आग को हवा देने से पहले कानून-व्यवस्था को सही किया जाये।'

मुख्यमंत्री बनर्जी के प्रभार वाले राज्य के गृह विभाग ने तत्काल इन आरोपों को खारिज करते हुए उन्हें 'आधारहीन और झूठ' पर आधारित बताया। विभाग का कहना है कि आंकड़े किसी आधिकारिक रिपोर्ट पर आधारित नहीं हैं।

गृह विभाग ने जवाब में ट्वीट किया, 'पश्चिम बंगाल में बलात्कार और अपहरण संबंधी राजभवन द्वारा दिए गए आंकड़े किसी भी आधिकारिक रिपोर्ट, आंकड़े या सूचना पर आधारित नहीं हैं। आरोप आधारहीन, झूठ पर आधारित और भ्रमित करते वाले हैं।' इस पर धनखड़ ने तुरंत जवाब देते हुए अप्रसन्नता जताई और गृह विभाग से अपने ट्वीट वापस लेने को कहा।
 

संबंधित खबरें