ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशबंगाल में भाजपा के साथ हो गया खेला, दीदी की TMC ने ऐसे पा ली खोई हुई जमीन

बंगाल में भाजपा के साथ हो गया खेला, दीदी की TMC ने ऐसे पा ली खोई हुई जमीन

West Bengal Lok Sabha Elections 2024 Result: साल 2019 के चुनाव में बीजेपी ने 18 सीटें हासिल कर रिकॉर्ड बनाया था, इस बार इनमें से छह सीटों पर टीएमसी ने कब्जा लिया है।

बंगाल में भाजपा के साथ हो गया खेला, दीदी की TMC ने ऐसे पा ली खोई हुई जमीन
Himanshu Tiwariतन्मय चटर्जी, हिन्दुस्तान टाइम्स,कोलकाताWed, 05 Jun 2024 08:33 PM
ऐप पर पढ़ें

West Bengal Lok Sabha Elections 2024 Result: पश्चिम बंगाल के 42 सीटों पर शानदार प्रदर्शन करते हुए तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने पांच साल बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से खोई हुई जमीन वापस पा ली है। 2019 के चुनाव में बीजेपी ने 18 सीटें हासिल कर रिकॉर्ड बनाया था, इनमें से छह सीटों को टीएमसी ने कब्जा लिया। बताते चलें कि यह सीट केंद्रीय राज्य मंत्रियों की भी थी। इसके अलावा, जिन सीटों पर जो बीजेपी अपना कब्जा बरकरार रखने में कामयाब रही, वहां जीत का अंतर कम हो गया।

उत्तर बंगाल क्षेत्र में मालदा से दार्जिलिंग जिलों तक फैला है, बीजेपी ने 2019 में आठ में से सात सीटें हासिल कीं। 2021 के विधानसभा चुनावों में भी, बीजेपी ने उत्तर बंगाल के आठ जिलों में 54 में से 29 सीटें हासिल की थी। भाजपा-नियंत्रित उत्तर बंगाल की तीन सीटों, कूचबिहार, अलीपुरद्वार और जलपाईगुड़ी में पहले चरण में 19 अप्रैल को मतदान हुआ था और अन्य तीन सीटों, दार्जिलिंग, रायगंज और बालुरघाट में 26 अप्रैल को दूसरे चरण में चुनाव हुए थे। निसिथ प्रमाणिक भाजपा के कूचबिहार सांसद और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री, टीएमसी विधायक जगदीश चंद्र बर्मा बसुनिया से करीबी मुकाबले में हार गए। इस हार के बाद प्रमाणिक ने मंगलवार को स्थानीय मीडिया से कहा, "हमें परिणामों का सावधानीपूर्वक विश्लेषण करना होगा।"

जहां पहले दो चरणों में मतदान हुआ था वहां भाजपा ने बाकी पांच सीटें बरकरार रखीं, लेकिन बालुरघाट में पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष सुकांत मजूमदार की जीत का अंतर 2019 में 33,293 वोटों से घटकर केवल 10,386 रह गया। इसी तरह, दार्जिलिंग सीट पर, जिसे भाजपा ने 2009 से स्थानीय गोरखा पार्टियों की मदद से जीता था वहां मौजूदा सांसद राजू बिस्ता का अंतर 2019 में 4,13,443 वोटों के मुकाबले घटकर 1,78,525 हो गया। तीसरे चरण का मतदान मुर्शिदाबाद और मालदा जिलों की चार सीटों पर हुआ, जहां बंगाल की सबसे अधिक मुस्लिम आबादी क्रमशः 66.28% और 51.27% है। दोनों जिले एक दशक पहले तक कांग्रेस के गढ़ हुआ करते थे।

बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी द्वारा 1999 के बाद से पांच बार जीती गई मुर्शिदाबाद की बरहामपुर सीट पर 13 मई को चौथे चरण मतदान हुए। इंदिरा गांधी के कैबिनेट सहयोगी दिवंगत एबी ए गनी खान चौधरी के भतीजे ईशा खान चौधरी ने अपनी मालदा दक्षिण सीट बरकरार रखी। ईशा खान बंगाल से एकमात्र कांग्रेस विजेता बनकर उभरे हैं क्योंकि अधीर रंजन चौधरी को टीएमसी उम्मीदवार और गुजरात निवासी क्रिकेटर यूसुफ पठान ने हरा दिया।

Advertisement