DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Weather Update: कई राज्यों में मॉनसून से पहले की बारिश ने दिलाई गर्मी से राहत

monsoon likely to late now  file pic

दिल्ली और एनसीआर में हल्की बारिश के यहां के तापमान में गिरावट आई है। सोमवार को हुई बूंदाबांदी का असर मंगलवार को भी रहा और लोगों को गर्मी से निजात मिली। वहीं दूसरी ओर, बादलों की आवाजाही के बीच उत्तर प्रदेश में सोमवार को भी प्रचंड गर्मी रही। हालांकि शाम को मामूली राहत मिली। उत्तर प्रदेश में आज बारिश की संभावना जताई गई है। बिहार में अगले 48 घंटे तक भीषण गर्मी की स्थिति देखते हुए मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी किया है।

पणजी सहित गोवा के कुछ हिस्सों में मंगलवार सुबह में हल्की से लेकर मध्यम बारिश हुई जिसके कारण तटीय राज्य में मौसम सुहावना रहा। राजस्थान के अनेक हिस्सों में सोमवार की रात से ही मानसून से पहले की बारिश हो रही है। मौसम विभाग का कहना है कि चक्रवात 'वायु' के कारण बने मौसमी प्रभाव से यह बारिश हो रही है। राज्य में जुलाई के पहले सप्ताह में मानसून के आने की उम्मीद है। पिछले 24 घंटों के दौरान मध्यप्रदेश के पश्चिमी और मध्य जिलों में कुछ स्थानों पर मामूली बारिश हुई जिससे तापमान में गिरावट आई और गर्मी से राहत मिली है। मध्यप्रदेश में मानसून अगले सप्ताह तक आने की उम्मीद है।

छत्तीसगढ़ में तेज गर्मी से लोगों को आने वाले दिनों में कुछ राहत मिल सकती है क्योंकि मौसम विभाग ने अगले दो दिनों में कई जगहों पर हल्की बारिश होने की संभावना जताई है। हालांकि राज्य में मानसून का अभी और इंतजार करना होगा।राजधानी रायपुर स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के मौसम विज्ञानी एच पी चंद्रा ने मंगलवार को यहां भाषा को बताया कि राज्य में अगले सप्ताह मानसून की बारिश हो सकती है।

चक्रवाती तूफान वायु के रुख बदलने से दिल्ली को गर्मी से राहत मिली है। दिल्ली-एनसीआर में सोमवार शाम से हो रही हल्की बारिश से मौसम सुहाना हो गया है। बारिश के साथ ही तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज होने से लोगों को गर्मी से राहत मिली। वायु तूफान के चलते दक्षिण पूर्वी दिशा से आने वाली हवा के चलते दिल्ली में अगले तीन-चार दिन तक बादल और हल्की बूंदाबांदी का मौसम बना रहने का अनुमान है।

अरब सागर में उठने वाला चक्रवाती तूफान एक बार फिर से गुजरात तट के तट की ओर बढ़ रहा है। माना जा रहा है कि यह सोमवार की अर्धरात्रि के समय समुद्र तट से टकरा सकता है। इसके चलते गुजरात में तेज हवा के साथ बारिश होने की संभावना है। जबकि, दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र को चक्रवाती तूफान वायु के चलते गर्मी से खासी राहत मिली है। प्रादेशिक मौसम पूर्वानुमान केन्द्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि चक्रवाती तूफान वायु के दोबारा गुजरात के समुद्र तट की ओर रुख करने की वजह से दिल्ली में आ रही हवाओं का भी रुख बदला है। अब दिल्ली में दक्षिण पूर्वी दिशा से हवा आ रही है। इस हवा में अरब सागर से आ रही नमी भी मौजूद है। इसके चलते अगले तीन दिनों तक बादल और बूंदाबांदी का क्रम बने रहने का अनुमान है। इससे लोगों को गर्मी से खासी राहत मिलेगी। इस दौरान अधिकतम तापमान 36-37 डिग्री तक बना रह सकता है। 

उत्तर प्रदेश में आज बादल, कल बारिश के आसार
बादलों की आवाजाही के बीच सोमवार को भी प्रचंड गर्मी रही। हालांकि शाम को मामूली राहत मिली। अधिकतम तापमान 49.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। न्यूनतम तापमान 27 डिग्री रहा। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि मंगलवार को दोपहर बाद बादल छाएंगे। बुधवार को तेज हवाओं के साथ बारिश हो सकती है। अमौसी स्थित मौसम केंद्र के अनुसार बीते 24 घंटों में राजधानी के कुछ स्थानों पर बुंदाबांदी हुई। पश्चिमी विक्षोभ के असर से मौसम में यह बदलाव आया है। मंगलवार को भी कुछ स्थानों पर बुंदाबांदी या बौछार पड़ सकती है। वहीं, विश्वस्तरीय निजी मौसम एजेंसी ने बुधवार को हल्की से तेज बारिश की संभावना जताई है। अगले 24 घंटों में तापमान में ज्यादा बदलाव की संभावना नहीं है। हवा में आद्रता अधिक होने से उमस रहेगा।.

वहीं बादलों की आवाजाही के बीच सोमवार को भी प्रचंड गर्मी रही। हालांकि शाम को मामूली राहत मिली। अधिकतम तापमान 49.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। न्यूनतम तापमान 27 डिग्री रहा। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि मंगलवार को दोपहर बाद बादल छाएंगे। बुधवार को तेज हवाओं के साथ बारिश हो सकती है। अमौसी स्थित मौसम केंद्र के अनुसार बीते 24 घंटों में राजधानी के कुछ स्थानों पर बुंदाबांदी हुई। पश्चिमी विक्षोभ के असर से मौसम में यह बदलाव आया है। मंगलवार को भी कुछ स्थानों पर बुंदाबांदी या बौछार पड़ सकती है। वहीं, विश्वस्तरीय निजी मौसम एजेंसी ने बुधवार को हल्की से तेज बारिश की संभावना जताई है। अगले 24 घंटों में तापमान में ज्यादा बदलाव की संभावना नहीं है। हवा में आद्रता अधिक होने से उमस रहेगा।

पटना में वार्म नाइट का अलर्ट, 19 के बाद राहत
बिहार में अगले 48 घंटे तक भीषण गर्मी की स्थिति देखते हुए मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी किया है। पटना, गया, औरंगाबाद , रोहतास सहित कई जिले लू की चपेट में हैं। अररिया, सुपौल, सहरसा, मधेपुरा, किशनगंज और कटिहार को छोड़कर पूरा सूबा चौथे दिन प्रचंड गर्मी झेलता रहा। मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, इन छह जिलों को छोड़कर राज्य के अन्य सभी जिले में सतर्क रहने की जरूरत है। 

सोमवार को पटना में दिन के तापमान में ढाई डिग्री की कमी आने से थोड़ी राहत मिली लेकिन रात में  हालात और बुरे हो गए। मौसम विज्ञान विभाग ने अलर्ट जारी कर कहा है कि पटना हीट वेव के साथ-साथ वार्म नाइट की चपेट में है।  सोमवार की रात भी ऐसी ही स्थिति रहेगी। गया में अब भी पारा सामान्य से पांच डिग्री ऊपर रिकॉर्ड किया गया। पटना और गया में अधिकतम पारा 42.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

वार्म नाइट का अलर्ट
मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार, पटना में रात में भी लू के हालात बने रहेंगे। रविवार को राजधानी के लोगों की रातें मुश्किल भरी रहीं और सोमवार की रात भी गर्मी का ऐसा ही सितम लोगों ने झेला। लोग पूरी रात सो नहीं पाए। आलम यह है कि जिस समय न्यूनतम पारा (सुबह 5.30बजे) 26 डिग्री सेल्सियस के आसपास होना चाहिए उस समय यह 32 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। ऐसे में अधिकतम पारा और न्यूनतम पारा का अंतर बढ़ने से वार्म नाईट का अलर्ट जारी किया गया है। 

पटना में 19 के बाद बदलेगा मौसम
पटना में 19 जून के बाद मौसम में बदलाव के संकेत हैं। बादल छाएंगे। 21 जून से बारिश के आसार हैं। गया में 20 और 21 को हीट वेव का अलर्ट है और इन दिनों में वार्म नाईट का अलर्ट भी जारी किया गया है। भागलपुर भी अभी हीट वेव की चपेट में है और अगले 24 घंटे पारा इसी तरह रहेगा। 

झारखंड में चार दिन तक हो सकती है छिटपुट बारिश 
राजधानी और आसपास के इलाके में चार दिन तक छिटपुट बारिश के आसार हैं। राज्य में 22 जून तक मानसून का प्रवेश हो सकता है। बंगाल की खाड़ी में लो प्रेशर सिस्टम के तीन-चार दिनों में प्रभावी होने के बाद मानसून का आगमन संभव है। इस दौरान रांची में अधिकतम तापमान में वृद्धि नहीं होगी। मौसम विज्ञान विभाग के वरीय वैज्ञानिक ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में लो प्रेशर सिस्टम बनने से मानसून के आगे बढ़ने के आसार हैं। बताया गया कि 21 जून तक रांची और इसके आसपास के इलाके में गरज के साथ दो से पांच मिलीमीटर तक बारिश संभव है। इस दौरान रांची का अधिकतम तापमान 38 डिग्री सेसि पर कायम रहेगा। वैसे राजधानी में सोमवार को अधिकतम तापमान 37.3 डिग्री सेसि रिकार्ड किया गया।  21 जून के बाद बारिश में तेजी आएगी।

गोवा के कुछ हिस्सों में हुई हल्की बारिश
राजधानी पणजी सहित गोवा के कुछ हिस्सों में मंगलवार सुबह में हल्की से लेकर मध्यम बारिश हुई जिसके कारण तटीय राज्य में मौसम सुहावना रहा। मौसम विभाग ने बताया कि आमतौर पर जून के पहले सप्ताह में मानसून गोवा पहुंच जाता है। मानसून के पहुंचने में इस साल पहले ही देरी हो गई है और राज्य में अभी तक इसकी शुरुआत नहीं हुई है।

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने एक बुलेटिन में बताया कि उत्तरी गोवा और दक्षिणी गोवा के जिलों के कुछ हिस्सों में सुबह हल्की बारिश हुई। उन्होंने बताया कि अगले दो दिनों में राज्य के कुछ हिस्सों में बारिश या गरज के साथ लगातार छीटें पड़ने की संभावना है। आईएमडी ने मौसम खराब होने की संभावना के मद्देनजर अरब सागर में मछुआरों को नहीं जाने की सलाह दी है। इसमें बताया गया है कि समुद्र में 3.5 से लेकर 4.1 मीटर ऊंची लहरें उठने का अनुमान है।

राजस्थान के अनेक हिस्सों में मानसून से पहले की बारिश
राजस्थान के अनेक हिस्सों में सोमवार की रात से ही मानसून से पहले की बारिश हो रही है। मौसम विभाग का कहना है कि चक्रवात 'वायु' के कारण बने मौसमी प्रभाव से यह बारिश हो रही है। राज्य में जुलाई के पहले सप्ताह में मानसून के आने की उम्मीद है।

बीते चौबीस घंटे में राज्य में वनस्थली में 17.2 मिमी बारिश दर्ज की गयी। इसके अलावा सवाई माधोपुर में सात मिमी, जयपुर में 4.1 मिमी, एरनपुरा में 2.0 मिमी और पिलानी में 1.1 मिमी बारिश दर्ज की गयी। गंगानगर तथा बाड़मेर जिलों से भी बारिश की खबरें हैं। बारिश के चलते राज्य में अधिकतम तापमान में भी गिरावट आई और वह 31 से 40 डिग्री सेल्सियस के बीच बना हुआ है।

मप्र में गर्मी से बेहाल लोगों को मामूली बारिश से मिली कुछ राहत
पिछले 24 घंटों के दौरान मध्यप्रदेश के पश्चिमी और मध्य जिलों में कुछ स्थानों पर मामूली बारिश हुई जिससे तापमान में गिरावट आई और गर्मी से राहत मिली है। मध्यप्रदेश में मानसून अगले सप्ताह तक आने की उम्मीद है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के मौसम वैज्ञानिक एस के डे ने बताया कि इस सप्ताह मॉनसून से पहले की बारिश होने से मध्यप्रदेश में तापमान में गिरावट आई है।

उन्होंने बताया कि प्रदेश में तापमान 40 से 49 डिग्री सेल्सियस के बीच था लेकिन बारिश के बाद कई हिस्सों में अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से नीचे चला गया। अगले सप्ताह तापमान और नीचे आ सकता है क्योंकि अगले 24 घंटे में राज्य के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश हो सकती है। उन्होंने बताया कि पिछले 24 घंटे में खरगोन और सीधी शहर 41 डिग्री सेल्सियस तापमान के साथ राज्य में सबसे गर्म स्थान रहे।

मौसम विभाग के अधिकारी ने बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान इंदौर, ग्वालियर और भोपाल संभाग के कुछ जिलों में और कुछ अन्य स्थानों पर बारिश दर्ज की गई। उन्होंने कहा कि पिछले 24 घंटे के दौरान मुरैना में 16 मिमी, शिवपुरी में 13 मिमी, धार में 10 मिमी और सागर, खजुराहो तथा उमरिया में क्रमश 14.3, 12.7 और 11.4 मिमी बारिश दर्ज की गई। अधिकारी ने कहा कि एक जून से अब तक राज्य में 37.1 मिमी बारिश दर्ज की गई है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में मानसून अगले सप्ताह तक आने की उम्मीद है।

छत्तीसगढ़ में मानसून के लिए करना पड़ेगा इंतजार
छत्तीसगढ़ में तेज गर्मी से लोगों को आने वाले दिनों में कुछ राहत मिल सकती है क्योंकि मौसम विभाग ने अगले दो दिनों में कई जगहों पर हल्की बारिश होने की संभावना जताई है। हालांकि राज्य में मानसून का अभी और इंतजार करना होगा। राजधानी रायपुर स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के मौसम विज्ञानी एच पी चंद्रा ने मंगलवार को यहां भाषा को बताया कि राज्य में अगले सप्ताह मानसून की बारिश हो सकती है। लेकिन इससे पहले यहां गर्मी से परेशान लोगों के लिए राहत की खबर यह है कि आने वाले दो दिनों में राज्य के कई हिस्सों में हल्की बारिश की संभावना है।

चंद्रा ने बताया कि मंगलवार को देर शाम और बुधवार को राज्य के दक्षिण क्षेत्र बस्तर, रायपुर और दुर्ग संभाग के कुछ हिस्सों में बारिश हो सकती है। उत्तर क्षेत्र के सरगुजा संभाग में बृहस्पतिवार को बारिश होने की संभावना है। राज्य के कुछ हिस्सों में आने वाले दिनों में तेज हवाएं चलने तथा गरज चमक के साथ तेज बारिश होने की भी संभावना है।

छत्तीसगढ़ देश के उन राज्यों में शामिल है जहां तेज गर्मी पड़ती है। गर्मी के मौसम में राज्य में तापमान कई बार 45 डिग्री सेल्सियस को पार कर जाता है। यहां 16 जून के आसपास मानसून पहुंचता है। लेकिन इस बार किसानों और यहां के लोगों को एक सप्ताह तक और इंतजार करना पड़ सकता है। मौसम विज्ञानी चंद्रा ने बताया कि मानसूनी हवाएं छत्तीसगढ़ की तरफ बढ़ रही हैं। इस महीने की 25 तारीख तक राज्य में मानसून की पहली बारिश हो सकती है।

राज्य में मानूसन के निकट आने के साथ ही यहां का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के आसपास बना हुआ है। मौसम विज्ञानी ने बताया कि राजधानी रायपुर और कुछ अन्य शहरों में दिन में गर्मी और उमस है लेकिन रात के तापमान में कुछ कमी हो रही है। उन्होंने बताया कि सोमवार को राजधानी रायपुर में अधिकतम तापमान 38.4 डिग्री सेल्सियस, बिलासपुर में 40.7 डिग्री सेल्सियस, अंबिकापुर में 36.7 डिग्री सेल्सियस और जगदलपुर में 30.1 डिग्री सेल्सियस मापा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Weather Update Pre Monsoon Rain Relief From Heatwave in Many States