DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मौसम विभाग का पूर्वानुमान: कृषि बेल्ट में इस बार सबसे ज्यादा बारिश

देश में मानसून के चार महीनों के दौरान 890 मिमी बारिश होती है।

भीषण गर्मी से बेहाल किसानों के लिए अच्छी खबर है। मौसम विभाग ने कृषि बेल्ट उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में अच्छी बारिश की संभावना जताई है। आमतौर पर इन राज्यों में बारिश सामान्य से थोड़ी कम होती है लेकिन इस बार तकरीबन सौ फीसदी बारिश का पूर्वानुमान जारी किया गया है। 

मौसम विभाग के महानिदेशक के. जे. रमेश ने बताया कि उत्तर पश्चिमी राज्यों एवं मध्य भारत में कृषि दृष्टि से उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात के प्रमुख हिस्से, छत्तीसगढ़, बिहार तथा पश्चिम बंगाल बेहद महत्वपूर्ण हैं। यहां अच्छी बारिश से खेती पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा। क्योंकि इन राज्यों में बारिश पर निर्भरता ज्यादा है। ट

 

अच्छी खबरः खूब बरसेंगे बदरा, IMD ने इसबार मानसून को बताया सबसे बेहतर

मौसम विभाग ने बुधवार को दूसरे चरण का पूर्वानुमान जारी किया है। इसमें देश के अलग-अलग हिस्सों में होने वाली बारिश की भविष्यवाणी की गई है। इसके अनुसार उत्तर-पश्चिमी राज्यों, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर तथा हिमाचल प्रदेश में सौ फीसदी बारिश होगी। इसी प्रकार मध्य भारत में मध्य प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और बिहार आदि में 99 फीसदी बारिश की संभावना व्यक्त की गई है। दक्षिणी राज्यों में अपेक्षाकृत थोड़ी कम 95 फीसदी बारिश का पूर्वानुमान लगाया गया है। देश के पूर्वोत्तर हिस्से में सबसे ज्यादा बारिश होती है लेकिन वहां इस बार महज 93 फीसदी बारिश का पूर्वानुमान व्यक्त किया गया है। 

जुलाई में 101 फीसदी बारिश
मौसम विभाग के मुताबिक जुलाई में सामान्य से 101 फीसदी बारिश होगी जबकि अगस्त में 94 फीसदी बारिश की संभावना है। इसमें मॉडलीय त्रुटि नौ फीसदी की रखा गई है। यानी बारिश इससे नौ फीसदी कम भी हो सकती है और ज्यादा भी। 

मानसून: केरल में तीन दिन पहले दी दस्तक,दिल्ली में दो दिन पहले पहुंचेगा

चार महीनों में 89 सेंटीमीटर वर्षा
देश में मानसून के चार महीनों के दौरान 890 मिमी बारिश होती है। अप्रैल में जारी पूर्वानुमान में मौसम विभाग ने 97 फीसदी बारिश होने की संभावना व्यक्त की थी है। इसमें पांच फीसदी की मॉडलीय त्रुटि बताई गई थी। मौसम विभाग के महानिदेशक के. जे. रमेश ने बताया कि विभाग पूर्व की भविष्यवाणी पर कायम है। बल्कि अब हमने मॉडलीय त्रुटि को पांच फीसदी से कम करके चार फीसदी कर दिया है।

- उत्तर भारत में सौ फीसदी और मध्य भारत में 99 फीसदी बारिश का अनुमान 
- 101 फीसदी बारिश जुलाई में होने की संभावना
- 94 फीसदी मानसूनी बारिश अगस्त में होने का अनुमान
- 89 सेंटीमीटर है देश में बारिश का सामान्य औसत स्तर
(नोट : वर्ष 1951 से 2000 के बीच बारिश की औसत मात्रा के मुताबिक मानक तय) 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Weather Department forecasts: highest rainfall this time in agriculture belt