DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

4 विधायक के गायब होने के बाद कर्नाटक कांग्रेस ने अपने MLA को रिजॉर्ट भेजा

Congress MLAs are seen seated in a luxury bus in Bengaluru on their way to a Eagleton resort on the

1 / 5Congress MLAs are seen seated in a luxury bus in Bengaluru on their way to a Eagleton resort on the outskirts of the city. (ANI/Twitter)

Congress MLAs are seen seated in a luxury bus in Bengaluru on their way to a Eagleton resort on the

2 / 5Congress MLAs are seen seated in a luxury bus in Bengaluru on their way to a Eagleton resort on the outskirts of the city. (ANI/Twitter)

Congress leader and former Karnataka chief minister Siddaramaiah addresses a press conference after

3 / 5Congress leader and former Karnataka chief minister Siddaramaiah addresses a press conference after the CLP meeting in Bengaluru. (Twitter/ANI)

Ahead of the Congress Legislature Party (CLP) meeting in Bengaluru, the Congress engaged in an acrim

4 / 5Ahead of the Congress Legislature Party (CLP) meeting in Bengaluru, the Congress engaged in an acrimonious war of words with the BJP over an alleged plot to destabilize the government even as it exuded confidence about having clawed out of the problem.

Congress MLAs attend Karnataka Congress Legislature Party meeting. (ANI/Twitter)

5 / 5Congress MLAs attend Karnataka Congress Legislature Party meeting. (ANI/Twitter)

PreviousNext

बेंगलुरू में कांग्रेस विधायक दल की बैठक और जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी की अगुवाई वाली गठबंधन सरकार को गिराने के लिए बीजेपी की तरफ से तोड़फोड़ की कोशिश के आरोपों के बीच कांग्रेस ने एकजुट होने का दावा किया। इसके साथ ही, कांग्रेस बेंगलुरू बाहर एगेल्टन रिजॉर्ट में अपने विधायकों लेकर गई है।

 

कर्नाटक में भाजपा द्वारा गठबंधन सरकार के कथित तख्तापलट की कोशिशों के बीच शक्ति प्रदर्शन के तौर पर शुक्रवार को हुई कांग्रेस विधायक दल की बैठक में चार नाराज विधायक नहीं पहुंचे। पार्टी इन विधायकों को नोटिस जारी कर इस पर जवाब मांगेगी।

चार विधायकों की गैरमौजूदगी से एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली सात महीने पुरानी कांग्रेस-जल(एस) गठबंधन सरकार को तत्काल कोई खतरा नहीं है लेकिन इससे संकेत मिलते हैं कि कांग्रेस में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा। बैठक से पहले कांग्रेस विधायकों को जारी नोटिस में सीएलपी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने चेतावनी दी थी कि विधायकों की गैरमौजूदगी को गंभीरता से लिया जाएगा। सिद्धरमैया ने कहा कि अनुपस्थित रहने वाले इन चारों विधायकों को नोटिस जारी कर जवाब मांगेगी।

बागी रमेश जर्किहोली, बी. नागेन्द्र, उमेश जाधव और महेश कुमाथहल्ली इस बैठक से नदारद रहे। उपमुख्यमंत्री जी. परमेश्वर ने कहा कि सभी विधायक और एमएलसी बैठक में मौजूद रहे। बागी रमेश जरकिहोली, बी. नागेन्द्र, उमेश जाधव और महेश कुमाथहल्ली इस बैठक में नहीं पहुंचे। एक तरफ जहां बी. नागेन्द्र ने कोर्ट में सुनवाई के चलते बैठक में न आने को अपनी वजह बताई तो वहीं दूसरी तरफ उमेश जाधव ने तबियत ठीक न होने का हवाला दिया।

नागेन्द्र ने कभी संपर्क से बाहर न रहने की बात पर जोर देते हुए कहा- “मैं कोर्ट में सुनवाई के लिए शहर आया हुआ हूं। ऐसा कोई ऑपरेशन (कांग्रेस विधायकों को खरीदने के लिए) नहीं हुआ है। मैं व्यक्तिगत कारणों से मुंबई गया क्योंकि मुझे काम था। मैं वहां पर प्राय: जाता रहता हूं।”

सिद्धारमैया ने कहा कि रमेश जर्किहोली और महेश कुमथाहल्ली ने लीडरशिप के साथ संपर्क नहीं किया और इसके लिए उन्हें गैर हाजिर होने का कारण साबित करने को कहा जाएगा। उन्होंने कहा- “मैनें गैर हाजिर रहनेवालों को नोटिस भेजकर उनसे जवाब मांगा है। जैसे ही उनसे जवाब मिल जाता है, इस बारे मं पार्टी अध्यक्ष के साथ चर्चा की जाएगी।”

कांग्रेस चार बागी विधायक और दो निर्दलीयों के बारे में खबर आयी कि वे मुंबई के होटल में ठहरे हुए थे और बीजेपी के संपर्क में थे।

बीजेपी कर रही सरकार को अस्थिर करने का प्रयास

सिद्धारमैया ने कहा- बैठक इसलिए बुलाई गई क्योंकि मीडिया में इस बात की कयासबाजी की जा रही है कि कई विधायक हमें छोड़कर जा रहे हैं। हमने कहा कि बीजेपी के साथ नहीं गया है और ये सब अफवाहें हैं। यह सच साबित हुआ और कुछ के गैर हाजिर रहने के अलावा बाकी सभी मौजूद थे। 80 विधायक में से 76 मौजूद थे और एक नोमिनेटेड सदस्य थे।

ये भी पढ़ें: राहुल के हस्तक्षेप से टला कनार्टक संकट,CM ने की असंतुष्ट MLAs से बात

दो विधायकों ने सफाई दी  
कांग्रेस के कुल 80 विधायक हैं जिसमें रमेश जारखिहोली, बी नागेंद्र, उमेश जाधव और महेश कुमाताहल्ली बैठक में नहीं आए। माना जा रहा है कि रमेश हाल में मंत्रिमंडल फेरबदल के दौरान अपना नाम मंत्री पद से हटाए जाने से बेहद नाराज थे। जाधव ने सिद्धारमैया को लिखा कि वह बीमार होने की वजह से सफर करने में सक्षम नहीं हैं। वहीं नागेंद्र ने गुरुवार को कहा था कि एक अदालती मामले की वजह से वह सीएलपी बैठक में नहीं आएंगे।

ये भी पढ़ें: कर्नाटक में टला राजनीतिक संकट, कांग्रेस विधायक पार्टी में लौटे

गठबंधन सरकार को खतरा नहीं : कांग्रेस 
सीएलपी बैठक से पहले कांग्रेस में वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं ने जोर देकर कहा कि गठबंधन सरकार को कोई खतरा नहीं है। उन्होंने सरकार को अस्थिर करने के विफल प्रयास करने के लिए भगवा दल पर निशाना साधते हुए कहा कि उसकी साजिश का पर्दाफाश हो चुका है। कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने कहा, सभी संपर्क में हैं, आप यह नहीं कह सकते कि कोई एक व्यक्ति संपर्क में नहीं है। 

उन्होंने यह भी कहा कि ये आरोप सच्चाई से परे हैं कि भाजपा कांग्रेस विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रही है। येदियुरप्पा ने कहा, यह सच्चाई से परे है कि हम कांग्रेस-जदएस गठबंधन में भ्रम पैदा कर रहे हैं। हम 104 लोग (भाजपा विधायक) एकजुट हैं। हमारी एकमात्र मंशा कर्नाटक में 20 लोकसभा सीटें जीतने की है और हम इसके लिए तैयारी कर रहे हैं।

कर्नाटक भाजपा प्रमुख बीएस येदियुरप्पा ने यहां कांग्रेस विधायक दल की बैठक के मद्देनजर शुक्रवार को कहा कि यह सबसे पुरानी पार्टी की जिम्मेदारी है कि वह अपने विधायकों को एकजुट रखे और उनकी पार्टी का दक्षिणी राज्य में सत्तारूढ़ गठबंधन में भ्रम पैदा होने से कुछ लेना देना नहीं है। 
गठबंधन में भ्रम के लिए भाजपा जिम्मेदार नहीं : येदियुरप्पा

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Warnings and War of words ahead of crucial meeting of Karnataka Congress