Vice Admiral Vimal Verma moves tribunal for being overlooked as next navy chief - नौसेना प्रमुख पद के लिए नजरअंदाज किये जाने पर कोर्ट पहुंचे वाइस एडमिरल विमल वर्मा DA Image
22 नवंबर, 2019|11:00|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नौसेना प्रमुख पद के लिए नजरअंदाज किये जाने पर कोर्ट पहुंचे वाइस एडमिरल विमल वर्मा

vice admiral bimal verma  ani photo

अंडमान एवं निकोबार कमान के कमांडर इन चीफ वाइस एडमिरल विमल वर्मा यह जानने की मांग के साथ सशस्त्र बल न्यायाधिकरण (एएफटी) पहुंचे कि 'लाइन ऑफ कमान' में वरिष्ठतम होने के बावजूद अगले नौसेना प्रमुख पद के लिए उन्हें नजरअंदाज क्यों किया गया। यह बात आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को कही।

एएफटी को दी गई याचिका में वर्मा ने पूछा कि सरकार ने उनकी वरिष्ठता को नजरअंदाज करते हुए वाइस एडमिरल करमबीर सिंह को अगला नौसेना प्रमुख नियुक्त क्यों किया। उनकी याचिका पर मंगलवार को सुनवाई होने की संभावना है। सरकार ने गत महीने वाइस एडमिरल करमबीर सिंह को अगला नौसेना प्रमुख नामित किया था जो कि एडमिरल सुनील लांबा का स्थान लेंगे। एडमिरल लांबा 30 मई को सेवानिवृत्त हो रहे हैं।

सरकार ने यह चयन मेरिट आधारित रुख अपनाते हुए किया और पद पर वरिष्ठतम अधिकारी को नियुक्त करने की परंपरा का पालन नहीं किया। वाइस एडमिरल वर्मा सिंह से वरिष्ठ हैं और वह शीर्ष पद के लिए दावेदारों में शामिल थे। सूत्रों ने कहा कि वर्मा के अलावा नौसेना प्रमुख के लिए अन्य दावेदारों में वाइस चीफ ऑफ नेवल स्टाफ वाइस एडमिरल जी अशोक कुमार, पश्चिमी नौसेना कमान के एफओसी इन सी वाइस एडमिरल अजित कुमार और दक्षिणी नौसेना कमान के एफओसी इन सी वाइस एडमिरल अनिल कुमार चावला शामिल थे।

वाइस एडमिरल वर्मा के इस नियुक्ति को लेकर अदालत पहुंचने पर तीन साल पहले सेना प्रमुख की नियुक्ति पर हुआ विवाद एक बार फिर ताजा हो गया है। उस समय भी सरकार ने दो वरिष्ठ ले. जनरलों की वरिष्ठता को नजरंदाज कर ले. जनरल बिपिन रावत को सेना प्रमुख नियुक्त किया था। वर्ष 2016 में सेना प्रमुख नियुक्त करते समय सरकार ने वरिष्ठता के साथ जाने की पुरानी परंपरा का पालन नहीं किया था।

वाइस एडमिरल वर्मा पूर्व एडमिरल निर्मल वर्मा के भाई हैं। एडमिरल निर्मल वर्मा 2009 से 2012 के बीच नौसेना प्रमुख थे। वाइस एडमिरल वर्मा को 1979 में नौसेना में कमीशन मिला था, जबकि वाइस एडमिरल सिंह को 1980 में कमीशन मिला था और वह लगभग 6 महीने वरिष्ठ हैं। वाइस एडमिरल सिंह नौसेना की पूर्वी कमान के प्रमुख हैं और वह नौसेना प्रमुख बनने वाले पहले हेलिकॉप्टर पायलट हैं। वाइस एडमिरल वर्मा ने अपनी याचिका में उनसे कनिष्ठ अधिकारी को नौसेना प्रमुख बनाये जाने के कारण के बारे में जानना चाहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Vice Admiral Vimal Verma moves tribunal for being overlooked as next navy chief