DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राम मंदिर के लिए कानून पर आम राय बनाने के पक्ष में है विहिप

अयोध्या : सुरक्षा में चूक, रामलला दर्शन मार्ग तक पहुंची कार

विहिप ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए एक कानून लाने पर आमराय बनाने का केंद्र से शुक्रवार को अनुरोध किया। हालांकि, इसने आशा जताई है कि इस विषय पर उच्चतम न्यायालय में लंबित मामला छह महीने में निष्कर्ष पर पहुंच जाएगा। 

विहिप अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे ने कहा, ''भाजपा अपने बूते कानून नहीं ला पाएगी क्योंकि इसके पास राज्य सभा में बहुमत का अभाव है। लेकिन, फिर भी हमने संसद में विधेयक लाने के लिए इलाहाबाद में लगने वाले कुंभ मेले के पावन दिन 31 जनवरी या एक फरवरी 2019 की समय सीमा निर्धारित की है। 

राम मंदिर बनाने का भाजपा द्वारा भरोसा दिलाने के बारे में संवाददाताओं के सवाल का जवाब देते हुए कोकजे ने यह बात कही। वह तमिरभारिनी महा पुष्करम उत्सव के लिए तिरूनेलवेल्ली में थे।

उन्होंने कहा कि केंद्र को सभी सांसदों की आम सहमति से कानून लाना चाहिए ताकि राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त हो सके। विश्व हिंदू परिषद नेता ने कहा कि पिछले हफ्ते संगठन ने एक अध्यादेश लाने के लिए सरकार के लिए साल के अंत तक की समय सीमा निर्धारित की है।

  कोकजे ने कहा, ''हमें उम्मीद है कि उच्चतम न्यायालय में इस विषय पर छह महीने में फैसला हो जाएगा। सबरीमला मंदिर में एक खास आयुवर्ग की महिलाओं के प्रवेश पर लगी पाबंदी हटाने के शीर्ष न्यायालय के फैसले पर उन्होंने कहा कि यह मामला महिलाओं के अधिकारों और सदियों पुरानी परंपरा के बीच हितों के टकराव का है। वह इस पर पुनर्विचार किए जाने के पक्ष में हैं।

गौरतलब है कि महा पुष्करम (नदियों की पूजा) के तहत काफी संख्या में लोग तमिरभारिनी नदी में डुबकी लगाते हैं। 

दशहरे के बाद कई विभाग छोड़ सकते हैं मनोहर पर्रिकर

रूस से एस-400, ईरान से तेल खरीदना भारत के हित में नहीं : अमेरिका

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:VHP is in favor of creating common opinion on Ram temple