DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  इजराइल डिफेंस कॉरीडोर में सहयोग करे: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

देशइजराइल डिफेंस कॉरीडोर में सहयोग करे: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

विशेष संवाददाता, लखनऊPublished By: Madan
Fri, 26 Jul 2019 08:49 AM
इजराइल डिफेंस कॉरीडोर में सहयोग करे: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा है कि भारत व इजराइल के सम्बन्ध बहुत पुराने हैं। उत्तर प्रदेश इजराइल के साथ अपने सम्बन्ध में और मजबूत करना चाहता है, जिससे भारत और इज़राइल के सम्बन्धों में और प्रगाढ़ता आएगी।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और इज़राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू द्वारा एक-दूसरे के देशों की यात्रा से इन सम्बन्धों में और सुदृढ़ता आयी है। मुख्यमंत्री ने यह विचार आज यहां लोक भवन में इज़राइल के राजदूत डाॅ राॅन मलका से भेंट के दौरान व्यक्त किए। 

उन्न्होंने कहा कि इज़राइली तकनीक का इस्तेमाल करते हुए जल आपूर्ति के पायलेट प्रोजेक्ट चलाए जाएं। उन्होंने पुलिस आधुनिकीकरण में इज़राइली तकनीक का इस्तेमाल करते हुए अत्याधुनिक कण्ट्रोल रूम और कमाण्ड सिस्टम स्थापित करने पर भी बल दिया। मुख्यमंत्री ने इज़राइल के राजदूत को कृषि प्रबन्धन, डिफ़ेंस  काॅरिडोर, सिंचाई एवं फसल प्रबन्धन, डेयरी, अवस्थापना विकास, अंतर्देशीय जल मार्ग, एक्सप्रेस-वेज़ निर्माण में सहभागिता के लिए आमंत्रित किया। भारत और इज़राइल के कोलेबोरेशन से उत्तर प्रदेश बड़े पैमाने पर लाभान्वित हो सकता है। 

इस अवसर पर इज़राइल के राजदूत ने कहा कि भारत इज़राइल का सामरिक (स्ट्रैटिजिक) भागीदार है। उनका देश भारत की हर सम्भव सहायता करेगा। इज़राइल उत्तर प्रदेश में एक 'फ्लैगशिप प्रोग्राम' स्थापित करना चाहता है। उत्तर प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में तकनीकी सहायता उपलब्ध कराने के लिए उनका देश तत्पर है।

बुंदेलखंड में जल संरक्षण करेगा इज़राइल 

उन्होंने बुन्देलखण्ड क्षेत्र के लिए जल संरक्षण तथा भूगर्भ जल रीचार्जिंग के सम्बन्ध में काॅम्प्रीहेन्सिव फीज़िबिलिटी रिपोर्ट तैयार करने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि बुन्देलखण्ड की भौगोलिक परिस्थितियां और जल स्रोतों की स्थिति इज़राइल से काफी मिलती-जुलती है। ऐसे में इज़राइल बुन्देलखण्ड क्षेत्र में जल की उपलब्धता बढ़ाने, भूगर्भ जल की रीचार्जिंग तथा अन्य जल स्रोतों के रख-रखाव के क्षेत्र में काफी मदद कर सकता है। इज़राइल के राजदूत ने कहा कि उनका देश उपलब्ध जल का 94 प्रतिशत रीसाइकिलिंग इत्यादि से इस्तेमाल में लाता है, अर्थात वहां पर जल की बर्बादी लगभग न के बराबर है। 

इज़राइल भारत के साथ डिफेंस सेक्टर में इन्नोवेटिव तकनीकी साझा कर सकता है। उन्होंने कहा कि उनके पास सभी क्षेत्रों के लिए कटिंग एज तकनीकी उपलब्ध है। इज़राइल भारत के किसानों की आय दोगुनी करने में हर सम्भव मदद करेगा। उन्होंने सितम्बर, 2019 में तेल अवीव में होने वाली डिफेंस काॅन्फ्रेन्स तथा नवम्बर, 2019 में इज़राइल में जल संरक्षण पर आयोजित होने वाली काॅन्फ्रेन्स में भाग लेने के लिए मुख्यमंत्री को आमंत्रित किया।  
मुख्यमंत्री ने इज़राइल के राजदूत का धन्यवाद देते हुए उन्हें उत्तर प्रदेश के डिफेंस काॅरिडोर, जेवर हवाई अड्डे, डेयरी, अवस्थापना विकास इत्यादि सेक्टरों में सहयोग के लिए आमंत्रित किया। मुख्यमंत्री ने इज़राइल के राजदूत के आमंत्रण को स्वीकार करते हुए इज़राइल पहुंचने का आश्वासन दिया।

संबंधित खबरें