ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशशरीर पर चकत्ते और चार-पांच दिन बुखार, रहस्यमयी बीमारी की चपेट में मुंबई; डॉक्टर भी हैरान

शरीर पर चकत्ते और चार-पांच दिन बुखार, रहस्यमयी बीमारी की चपेट में मुंबई; डॉक्टर भी हैरान

महानगर मुंबई इन दिनों एक रहस्यमयी बुखार की चपेट में है। शहर के कई लोग इस बुखार से पीड़ित हो चुके हैं। जिस किसी को भी यह बुखार अपनी चपेट में ले रहा है, चार-पांच दिन से पहले छोड़ नहीं रहा है।

शरीर पर चकत्ते और चार-पांच दिन बुखार, रहस्यमयी बीमारी की चपेट में मुंबई; डॉक्टर भी हैरान
Deepakलाइव हिंदुस्तान,मुंबईMon, 23 Oct 2023 05:48 PM
ऐप पर पढ़ें

महानगर मुंबई इन दिनों एक रहस्यमयी बुखार की चपेट में है। शहर के कई लोग इस बुखार से पीड़ित हो चुके हैं। जिस किसी को भी यह बुखार हो रहा है, चार-पांच दिन से पहले छोड़ नहीं रहा है। इस दौरान शरीर का तापमान 99 से 102 डिग्री सेल्सियस तक बना रहता है। एक अन्य लक्षण जो इसे अन्य बुखारों से अलग बनाता है, वह चौथे या पांचवें दिन शरीर पर चकत्तों का पड़ना। इसके अलावा अन्य लक्षणों में आंखों में झुनझुनी, भारीपन, सिरदर्द और अनिद्रा भी शामिल है।

डेंगू, मलेरिया टेस्ट निगेटिव
इन सबमें चौंकाने वाली बात यह है कि इतना ज्यादा बुखार होने के बावजूद मरीज के डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया जैसे तमाम टेस्ट निगेटिव आ रहे हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया के बीवाईएल नायर अस्पताल के फिजिशियन ने बताया कि अगर बुखार के साथ शरीर पर चकत्ते पड़ते हैं तो यह डेंगू माना जाता है। लेकिन इस बुखार के मरीजों के सभी टेस्ट लगातार निगेटिव आ रहे हैं। पिछले करीब दो महीनों से यहां पर इस बुखार का प्रकोप छाया हुआ है। ऊपरी तौर पर नजर आने वाले लक्षणों के साथ-साथ कुछ और भी चीजें हो रही हैं। मरीज के डब्लूबीसी काउंट में गिरावट देखने को मिल रही है। प्लेटलेट्स लेवल नॉर्मल रहता है, लेकिन आरबीसी काउंट बढ़ जा रहा है। 

दो दिन के अंदर चकत्ते हो रहे गायब
एक प्रमुख बीएमसी अस्पताल में डॉक्टर नीलम आंद्रेदे ने इस अजीब बुखार के बारे में और जानकारी दी। उन्होंने कहा कि गुलाबी रंग के चकत्ते पूरे शरीर पर पड़ रहे हैं और दो दिन के अंदर गायब भी हो जा रहे हैं। इन रैशेज में खुजली होती है और लोगों को काफी परेशानी भी होती है। उन्होंने कहा कि इस बुखार के चलते जोड़ों में असहनीय दर्द हो रहा है। हालांकि बुखार की चपेट में आए लोगों ने ऐसा कोई लक्षण महसूस नहीं किया गया है, जिससे जान जाने का खतरा हो। एक पैथोलॉजिस्ट ने बताया कि अगर शुरुआती रिपोर्ट निगेटिव आएं तो बेहद जरूरी है कि लगातार पीसीआर टेस्ट किए जाएं।