DA Image
17 फरवरी, 2020|6:24|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केंद्रीय मंत्री प्रताप सारंगी बोले- देश के विभाजन के तौर पर कांग्रेस के पाप का प्रायश्चित है नागरिकता कानून

union minister pratap sarangi

केंद्रीय मंत्री प्रताप चंद्र सारंगी ने शनिवार को कहा कि नागरिकता संशोधन कानून देश के विभाजन के तौर पर कांग्रेस द्वारा किए गए पाप के प्रायश्चित का रास्ता है। उन्होंने कहा कि इस कानून को 70 साल पहले ही पास हो जाना चाहिए था। साथ ही उन्होंने एक सवाल के जवाब में यह भी कहा कि जो वंदे मातरम नहीं बोल सकते, वो देश छोड़कर चले जाएं। बता दें कि नागरिकता कानून पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के अल्पसंख्यकों को नागरिकता प्रदान करता है। 

सारंगी ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून को 70 साल पहले हो जाना चाहिए था। नागरिकता कानून हमारे कुछ चुने हुए नेताओं के पूर्वजों द्वारा किए गए पाप के प्रायश्चित करने का एक तरीका है। नागरिकता कानून देश के विभाजन के पाप का प्रायश्चित है और हमें इसके लिए पीएम नरेंद्र मोदी को बधाई देना चाहिए। कांग्रेसवालों ने पाप किया और हम प्रायश्चित कर रहे हैं।

प्रताप सारंगी ने कहा कि देश का विभाजन सांप्रदायिक आधार पर किया गया था। उन्होंने जवाहरलाल नेहरू पर सवाल उठाते हुए कहा कि विभाजन किसी भी राजनीतिक, आर्थिक, भौगोलिक या ऐतिहासिक आधार पर नहीं हुआ। यह सांप्रदायिक आधार पर किया गया था। हमने कभी नहीं कहा कि हम मुसलमानों के साथ नहीं रह सकते। हम उनके साथ हजारों सालों से रह रहे हैं। 

आगे उन्होंने कहा कि मगर हमें दो-राष्ट्र सिद्धांत का प्रस्ताव रखने वाले लोगों के साथ समझौता करने के लिए किसने मजबूर किया? विभाजन अपरिहार्य नहीं था। नेहरू को किसने मजबूर किया? देश किसी की पैतृक संपत्ति नहीं है। किसी को भी इसे विभाजित करने का अधिकार नहीं था।

सारंगी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि वे लोग इसका विरोध क्यों कर रहे हैं? क्योंकि उनका अस्तित्व खत्म होते जा रहा है इसलिए वे देश में आग लगा रहे हैं। उन्होंने कहा, 'जो आग लगाता है मैं उसको देशप्रेमी नहीं मानता। जिनको भारत की आजादी, अखंडता और वंदे मातरम स्वीकार नहीं है उनको देश में रहने का कोई अधिकार नहीं है।'

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Union minister Pratap Sarangi says CAA is to atone for sin of Partition