DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › चाट-पापड़ी पसंद नहीं तो फिश करी ले सकते हैं', डेरेक ओ ब्रायन पर केंद्रीय मंत्री का तंज- संसद को मछली बाजार मत बनाइए
देश

चाट-पापड़ी पसंद नहीं तो फिश करी ले सकते हैं', डेरेक ओ ब्रायन पर केंद्रीय मंत्री का तंज- संसद को मछली बाजार मत बनाइए

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Nishant Nandan
Wed, 04 Aug 2021 03:16 PM
चाट-पापड़ी पसंद नहीं तो फिश करी ले सकते हैं', डेरेक ओ ब्रायन पर केंद्रीय मंत्री का तंज- संसद को मछली बाजार मत बनाइए

तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओ ब्रायन के 'चाट-पापड़ी' वाले बयान को लेकर केंद्रीय मंत्री ने उनपर तंज कसते हुए उन्हें मछली बात खाने की नसीहत दे दी है। हाल ही में डेरेक ओ ब्रायन ने आरोप लगाया था कि संसद में बिना विपक्षी दलों से बातचीत किये ही बिल पास कर दिये जा रहे हैं। विधेयक पारित हो रहे हैं या चाट-पापड़ी बना रहे हैं। डेरेक ओ ब्रायन के इसी बयान पर तंज कसते हुए केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि 'अगर उन्हें चाट-पापड़ी से एलर्जी हैं तो वो फिश करी खा सकते हैं। लेकिन संसद को मछली बाजार ना बनाएं...दुर्भाग्यवश जिस तरह से संसद की छवि खराब करने की साजिश रची रही है वो गलत है और ऐसा पहले कभी नहीं हुआ है।' 

इससे पहले सोमवार को टीएमसी सांसद ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए ट्वीट किया था कि 'इस सत्र के पहले 12 दिन में मोदी-शाह ने 12 बिल पारित कराए। प्रत्येक बिल को संसद में औसतन सात मिनट मिले। विधेयक पारित कर रहे हैं या पापड़ी चाट बना रहे हैं।' इतना ही नहीं, इसके बाद उन्होंने मंगलवार को दिल्ली के साउथ एवेन्यू स्थित तृणमूल कांग्रेस के दफ्तर में चाट पापड़ी की पार्टी भी की थी। डेरेक ओ ब्रायन ने कहा था कि उनका इरादा गंभीर मुद्दे पर लोगों से जुड़ने के लिए एक सांस्कृतिक मुहावरे का उपयोग करना था। उन्होंने पूछा था कि अगर वो पापड़ी-चाट के बजाये 'ढोकला' शब्द का इस्तेमाल करते तो क्या प्रधानमंत्री खुश होते?

मंगलवार को एक चैनल के साथ साक्षात्कार में डेरेक ओ ब्रायन ने यह भी कहा था कि  पीएम मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री विपक्ष के सवालों से भाग रहे हैं। उन्होंने केंद्रीय मंत्री को चुनौती देते हुए कहा था कि अगर अमित शाह संसद में आ गए तो वो अपना सिर मुंडवा लेंगे। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि ' प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अभिशाप देते हुए आप कोसी नदी पहुंच जाइए और तब सिर्फ वहीं अपने बाल मुंडवा लीजिए। यह सब कुछ नहीं है सिर्फ राजनीति करने और संसद के कामकाज को प्रभावित करने का तरीका है।' 

संबंधित खबरें