Union Health Minister Dr Harsh Vardhan writes to Mamata Banerjee on ongoing doctors strike - ममता को हर्षवर्धन का पत्र, मामले को प्रतिष्ठा का मुद्दा न बनाएं, डॉक्टरों को याद दिलाया दायित्व DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ममता को हर्षवर्धन का पत्र, मामले को प्रतिष्ठा का मुद्दा न बनाएं, डॉक्टरों को याद दिलाया दायित्व

doctors to go on strike no opds will work at aiims and safdarjung today

कोलकाता में आंदोलन कर रहे जूनियर डॉक्टरों के समर्थन में देश के विभिन्न हिस्सों से चिकित्सक बिरादरी के आ जाने के मद्देनजर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री को इस संवेदनशील मामले को प्रतिष्ठा का मुद्दा नहीं बनाने और सौहार्द्रपूर्ण तरीके से आंदोलन खत्म कराने का अनुरोध किया। बनर्जी को एक पत्र में केंद्रीय मंत्री ने उनसे सौहार्द्रपूर्ण तरीके से प्रदर्शन खत्म कराने और डॉक्टरों के लिए काम-काज का सुरक्षित माहौल उपलब्ध कराने का अनुरोध किया।

उन्होंने खासकर पश्चिम बंगाल के हड़ताली डॉक्टरों से सांकेतिक प्रदर्शन करने और काम पर लौटने की अपील की ताकि मरीजों को दिक्कतें नहीं हो। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ''डॉक्टरों को दूसरे सामान्य या सांकेतिक तरीके से प्रदर्शन करना चाहिए। चिकित्सा पेशेवर होने के नाते अपने मरीजों की रक्षा करना उनका दायित्व है। हड़ताल प्रदर्शन का श्रेष्ठ तरीका नहीं है। मरीजों को त्वरित और आपात चिकित्सा सुविधा से वंचित नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: कोलकाता से दिल्ली तक सुनाई दी डॉक्टरों के प्रदर्शन की गूंज, खास बातें

उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से अपील करते हुये कहा कि वह इस संवेदनशील मामले को 'प्रतिष्ठा का मुद्दा न बनाएं और कहा कि इस बारे में उन्हें पत्र लिखेंगे। पश्चिम बंगाल में जूनियर डॉक्टर मंगलवार से ही हड़ताल पर हैं। कोलकाता में एनआरएस मेडिकल कॉलेज में एक मरीज की मौत से नाराज उसके परिजनों ने दो जूनियर डॉक्टरों पर हमला करके उन्हें गंभीर रूप से घायल कर दिया था।

हर्षवर्धन ने कहा कि चिकित्सकों को बुरी तरह से पीटे जाने के बावजूद डॉक्टरों ने मुख्यमंत्री से केवल यही कहा कि उन्हें पर्याप्त सुरक्षा मुहैया कराई जाए और हिंसा में शामिल दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए, लेकिन ऐसा करने की जगह उन्होंने डॉक्टरों को चेतावनी और अल्टीमेटम दे दिया, जिससे देशभर के चिकित्सकों में नाराजगी फैल गई और वे हड़ताल पर चले गए ।

यह भी पढ़ें:सीएम ममता बनर्जी बोलीं- अगर बंगाल में रहना है तो बोलनी होगी बांग्ला

केंद्रीय मंत्री ने कहा, ''अगर इस तरह के गंभीर परिदृश्य में मुख्यमंत्री संवेदनशील तरीके से काम करती हैं तो देशभर में मरीजों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। मैं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री से अनुरोध करता हूं कि वह इसे प्रतिष्ठा का मुद्दा न बनायें। उन्होंने डॉक्टरों को आश्वस्त किया कि सरकार उनकी सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और उनसे अनुरोध किया कि आवश्यक सेवाएं बाधित नहीं हो।

एम्स, सफदरजंग अस्पताल, डॉ राममनोहर लोहिया अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन, यूनाइटेड रेजिडेंट एंड डॉक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (यूआरडीए) तथा फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (एफओआरडीए) के एक प्रतिनिधिमंडल ने हर्षवर्धन से मुलाकात की और पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा पर उन्हें एक ज्ञापन दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Union Health Minister Dr Harsh Vardhan writes to Mamata Banerjee on ongoing doctors strike