DA Image
8 अप्रैल, 2020|10:24|IST

अगली स्टोरी

CAA पर उद्धव ठाकरे के बयान को लेकर बोले मनीष तिवारी, उन्हें इस मुद्दे पर ब्रीफिंग की जरूरत

a case was registered on thursday against unidentified persons at the rupnagar city police station u

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने शनिवार (22 फरवरी) को कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को यह समझने के लिए संशोधित नागरिकता नियम-2003 पर “जानकारी दिए जाने की जरूरत” है कि कैसे राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) का आधार है। तिवारी ने यह भी कहा कि संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) पर ठाकरे को संविधान के स्वरूप से फिर से परिचित होने की जरूरत है जिसके मुताबिक धर्म नागरिकता का आधार नहीं हो सकता।

ठाकरे के एक दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री तिवारी की तरफ से यह बयान आया है। महाराष्ट्र में शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की गठबंधन सरकार है। मोदी से मुलाकात के बाद ठाकरे ने कहा था कि सीएए को लेकर किसी को डरने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह किसी को देश से बाहर निकालने के संबंध में नहीं है।

उद्धव की PM मोदी से मुलाकात से पहले शिवसेना का तंज, कहा-2024 में पाकिस्तान या सर्जिकल स्ट्राइक नहीं राम मंदिर होगा मुद्दा

कांग्रेस प्रवक्ता तिवारी ने कहा, “महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को संशोधित नागरिकता नियम-2003 के बारे में फिर से जानकारी लेने की जरूरत है जिससे वह यह समझ पाएं कि कैसे एनपीआर ही एनआरसी की बुनियाद है।” उन्होंने कहा, “एक बार जब आप एनपीआर करते हैं तो फिर एनआरसी को नहीं रोक सकते। सीएए पर--भारतीय संविधान के स्वरूप से फिर से अवगत होने की जरूरत है कि धर्म नागरिकता का आधार नहीं हो सकता।”

ठाकरे ने मोदी से मुलाकात के बाद कहा: सीएए से डरने की जरूरत नहीं है
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार (21 फरवरी) को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात के बाद कहा था कि सीएए से किसी को डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि इसका मकसद किसी को देश से बाहर निकालना नहीं है। शिवसेना प्रमुख ठाकरे ने कहा कि देश में डर का माहौल बनाया जा रहा है कि राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) मुसलमानों के लिए खतरनाक है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में एनआरसी को लागू नहीं किया जाएगा।

ठाकरे ने प्रधानमंत्री के साथ लगभग एक घंटे तक चली मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए), राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी (एनपीआर) और एनआरसी पर चर्चा की। उन्होंने कहा, ''मैं इन सभी मुद्दों पर अपना रुख स्पष्ट कर चुका हूं। किसी को भी सीएए से डरने की जरूरत नहीं है। मैंने कहा था कि सीएए किसी को देश से बाहर निकालने का कानून नहीं है।''

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Uddhav Thackeray requires briefing to understand how NPR is basis of NRC Says Manish Tewari