ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देश'सनातन को खत्म कर देना चाहिए' कहने वाले उदयनिधि बुरे फंसे, कोर्ट ने कर लिया तलब

'सनातन को खत्म कर देना चाहिए' कहने वाले उदयनिधि बुरे फंसे, कोर्ट ने कर लिया तलब

उदयनिधि ने सनातन धर्म की तुलना डेंगू और मलेरिया से कर दी थी। उदयनिधि ने कहा था कि कुछ चीजों का सिर्फ विरोध नहीं किया जाना चाहिए, बल्कि उसे जड़ से मिटा देना चाहिए।

'सनातन को खत्म कर देना चाहिए' कहने वाले उदयनिधि बुरे फंसे, कोर्ट ने कर लिया तलब
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,बेंगलुरुSat, 03 Feb 2024 03:17 PM
ऐप पर पढ़ें

तमिलनाडु के मंत्री और मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के बेटे उदयनिधि स्टालिन की मुश्किलें बढ़ गई हैं। पिछले साल सनातन धर्म पर दिए गए विवादित बयान को लेकर उदयनिधि को बेंगलुरु कोर्ट ने समन किया है। बेंगलुरु में जन प्रतिनिधियों की विशेष अदालत ने बेंगलुरु के स्थानीय परमेश की शिकायत पर मंत्री को तलब किया है। कोर्ट ने उदयनिधि को चार मार्च को होने वाली सुनवाई के लिए व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होने के लिए कहा है। पिछले साल उदयनिधि ने सनातन को खत्म करने की बात कही थी।

'इंडिया टुडे' के अनुसार, इस मामले की सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता परमेश की ओर से वकील धर्मपाल पेश हुए। उन्होंने कहा कि ने कहा, "तमिलनाडु के सीएम एमके स्टालिन के बेटे उदयनिधि स्टालिन ने एक कार्यक्रम में भाग लिया, जिसमें सनातन धर्म का विरोध किया गया था। यह बयान हर जगह पब्लिश हुआ था। वह अपने बयान पर कायम हैं और कहा है कि वे अदालत में भी इसका सामना करेंगे।''

उन्होंने आगे कहा कि राम मंदिर के उद्घाटन के साथ ही हिंदू धर्म के बारे में बहुत अधिक भक्ति और जागरूकता बढ़ी है। इस वजह से इस तरह के बयानों से हिंदू धर्म का पालन करने वालों और विभिन्न धर्मों के कुछ अन्य लोगों की भावनाएं भी आहत होती हैं। बेंगलुरु की कोर्ट ने परमेश द्वारा दायर शिकायत के आधार पर समन जारी किया और उदयनिधि को चार मार्च को पेश होने के लिए कह दिया है।

बता दें कि पिछले साल एक कार्यक्रम में शामिल होते हुए उदयनिधि स्टालिन ने सनातन धर्म पर विवादित बयान दिया था, जिससे काफी हंगामा मचा था। राज्यों के चुनाव के दौरान पीएम मोदी ने भी उदयनिधि के इस बयान के चलते कांग्रेस पर निशाना साधा था। उदयनिधि ने सनातन धर्म की तुलना डेंगू और मलेरिया से कर दी थी। उदयनिधि ने कहा था कि कुछ चीजों का सिर्फ विरोध नहीं किया जाना चाहिए, बल्कि उसे जड़ से मिटा देना चाहिए। जैसे हम डेंगू, मच्छर, मलेरिया का विरोध नहीं कर सकते और उसे खत्म करना होगा। इसी तरह सनातन को भी समाप्त करना होगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें