DA Image
4 जुलाई, 2020|8:09|IST

अगली स्टोरी

पाकिस्तानी उच्चायोग के 2 वीजा सहायक जासूसी करते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार, ड्राइवर भी हिरासत में

two visa assistants of pakistan high commission apprehended red handed indulging in espionage in new

पाकिस्तानी उच्चायोग के दो वीजा सहायकों को दिल्ली में जासूसी करते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया है। इनके ड्राइवर को भी हिरासत में लिया गया है। आबिद हुसैन और ताहिर खान वीजा सहायक के रूप में काम करते हैं और आईएसआई के संचालक हैं। भारत ने उन्हें पर्सोना-नॉन ग्रेटा घोषित किया। दोनों को कल भारत छोड़ना है।

पाकिस्तान के चार्ज डे अफेयर के समक्ष भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा के खिलाफ पाकिस्तान के उच्चायोग के इन अधिकारियों की गतिविधियों के संबंध में विरोध दर्ज कराया गया है। साथ ही यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि उसके राजनयिक मिशन का कोई भी सदस्य भारत विरोधी गतिविधियों में लिप्त न हो या अपनी राजनयिक स्थिति के साथ असंगत व्यवहार न करे।

दिल्ली पुलिस की एंटी टेरर यूनिट- स्पेशल सेल ने जासूसी के आरोप में पाकिस्तानी उच्चायोग के दो वीजा सहायकों को हिरासत में लिया है। इन्हें भारतीय सुरक्षा तैयारियों सहित आंतरिक सुरक्षा से जुड़ी सूचनाओं की जासूसी करने का आरोप में हिरासत में लिया गया है। स्पेशल सेल के ज्वाइंट कमिश्नर नीरज ठाकुर ने बताया कि दोनों से पूछताछ की जा रही है और हामारी टीम यह पता लगाने में जुटी है कि इनके नेटवर्क में और कौन-कौन से लोग शामिल हैं?

बीते पांच सालों से दोनों दिल्ली में
जासूसी के आरोप में स्पेशल सेल के हत्थे चढ़े दोनों आरोपी पिछले करीब पांच साल से ज्यादा समय से दिल्ली में थे। शुरुआती पूछताछ में यह पता चला है कि दोनों आरोपी पाकिस्तानी खुफिया इकाई आईएसआई के संपर्क में थे। ये आईएसआई के लिए भारत की सुरक्षा तैयारियों से जुड़ी गोपनीय जानकारी जुटा रहे थे। इनके पास से पुलिस ने कुछ दस्तावेज भी बरामद किए हैं, जिसकी बारीकी से जांच की जा रही है। स्पेशल सेल की टीम इनसे पूछताछ कर यह पता लगाने में जुटी है कि इन्होंने आाखिरकार ये दस्तावेज किससे हासिल किए थे? और इसके लिए किस नेटवर्क का इस्तेमाल किया था? 

ऐसे पकड़े गए दोनों आरोपी
हिरासत मे लिए गए दोनों आरोपियों में आबिद हुसैन और ताहिर खान शामिल हैं। ये पाकिस्तानी उच्चायोग के वीजा यूनिट में बतौर सहायक काम करते हैं और आईएसआई के लिए काम करते थे। स्पेशल सेल सूत्रों की मानें तो इन्हें सोमवार को ही भारत छोड़ना था, लेकिन पुलिस ने इन्हें इससे पहले ही धर दबोचा।

स्पेशल सेल के मुताबिक खुफिया इकाइयों के जरिये स्पेशल सेल को सूचना मिली थी कि पाकिस्तानी उच्चायोग से जुड़े कुछ लोग जासूसी करने में जुटे हैं। सूचना के आधार पर पुलिस इनके पीछे लगी हुई थी और इनकी हर गतिविधि पर पैनी नजर गड़ा रखी थी। सूचना पुख्ता होते ही पुलिस ने इन्हें धर दबोचा।

एमआईयू की मदद से दबोचे गए
स्पेशल सेल सूत्रों के मुताबिक यह ऑपरेशन मिलिट्री इंटेलिजेंस यूनिट(एमआईयू) के साथ मिलकर पिछले कुछ महीने से चल रही थी। इसमें एमआईयू की टीम लगातार इनपुट मुहैया करा रही थी और स्पेशल सेल की एक टीम इनके पीछे लगी हुई थी। स्पेशल सेल और एमआईयू की संयुक्त टीम द्वारा चलाए गए इस ऑपरेशन के तहत आरोपियों को दिल्ली के करोल बाग इलाके में आर्यसमाज रोड स्थित बीकानेरवाला चौक के समीप रविवार सुबह करीब 10.45 बजे पकड़ा गया।

इनके साथ ड्राइवर भी हिरासत में
मिलिट्री इंटेलिजेंट के मुताबिक कुल तीन लोग थे जिसमें आबिद और ताहिर के साथ साथ एक ड्राइवर भी था। दरअसल बताया जा रहा है कि ये लोग किसी से मिलने के लिए करोल बाग पहुंचे हुए थे। जिसे ये काफी समय से अपने झांसे में लेने की कोशिश कर रहे थे। उसे ये कुछ पैसे और एक आई फ़ोन देने के लिए गए थे लेकिन उससे पहले ही इन्हें धर दबोचा गया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Two Visa Assistants of Pakistan High Commission apprehended red handed indulging in espionage in New Delhi