अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भीड़ का इंसाफः लॉकअप पर हमला कर भीड़ ने बलात्कार के दो आरोपियों को पीट-पीटकर मार डाला, बाजार में फेंका शव

mob lynching in Arunachal Pradesh

अरुणाचल प्रदेश में भीड़ का इंसाफ देखने को मिला है। यहां प्रदेश के तेजु शहर में भीड़ ने बलात्कार के आरोप में दो संदिग्धों को पीट-पीटकर मार डाला। हैरानी की बात तो ये रही कि घटना थाने के अंदर हुई। दोनों ही संदिग्ध थाने में बंद थे।

मृतकों में से एक पर पांच साल की बच्ची के साथ कथित तौर पर बलात्कार और हत्या का आरोप था और दूसरे पर इस अपराध में मदद करने का आरोप लगा था। अरुणाचल प्रदेश पुलिस ने इस घटना की पुष्टि कर दी है। 

पुलिस के डीआईजी (पूर्वी रेंज) अपुर बिटिन ने कहा कि सोमवार 12 बजे के आसपास करीब एक हजार लोगों की भीड़ ने पुलिस के लॉकअप पर हमला कर दिया और दोनों आरोपियों को अपने साथ ले गई। इस हमले में पुलिस के कुछ लोग भी घायल हुए हैं। 
मृतकों की पहचान संजय सोबोर (30) और जगदीश लोहर (25) के रूप में की गई हैं। दोनों संदिग्धों को पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार किया था। 

मार कर बाजार में फेंके शव 
मीडिया में चल रही खबर के मुताबिक सोमवार को थाने के बाहर देखते ही देखते सैकड़ों लोग जमा हो गए। भीड़ में शामिल कुछ लोग लॉकअप में बंद दोनों आरोपियों को खींचकर बाहर निकाल ले गए और उन पर हमला कर दिया। बाद में दोनों के शव बाजार में फेंक दिए गए।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 12 फरवरी को एक बच्ची का अपहरण कर लिया गया था और शव पांच दिन बाद एक चाय बागान से मिला था। शव नग्न हालत में था और सिर कटा हुआ था। पुलिस ने रविवार को दोनों संदिग्धों को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया था जहां से दोनों को पूछताछ के लिए पुलिस हिरासत में भेजा गया था। जहां एक संदिग्ध ने कथित तौर पर पुलिस के समक्ष बच्ची का अपहरण और बलात्कार करने की बात कबूल कर ली थी। 

अज्ञात लोगों पर केस दर्ज
इस बीच पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का एक मामला दर्ज करके छानबीन शुरू कर दी है, लेकिन सोमवार देर शाम तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई। इस घटना के बाद से क्षेत्र में तनाव उत्पन्न हो गया है। 

जांच के आदेश
मुख्यमंत्री पेमा खांडु इस घटना की जांच के आदेश दिये हैं। खांडु ने नाबालिग लड़की के बलात्कार और हत्या की घटना को 'बर्बर और अमानवीय' करार दिया। साथ ही उन्होंने भीड़ द्वारा दो लोगों की हत्या को भी 'दुर्भाग्यपूर्ण' बताया। सीएम ने कहा कि पुलिस घटना की जांच कर रही है और किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जा सकती। 

पुलिसकर्मी बर्खास्त
घटना के दौरान तेजु थाने में तैनात तीन पुलिसकर्मियों को बर्खास्त कर दिया गया है, वहीं लोहित जिले के पुलिस अधीक्षक का ट्रांसफर कर दिया गया है। 

आपको बता दें कि साल 2015 में ऐसी ही एक घटना नागालैंड के दीमापुर शहर में सामने आई थी। यहां भी भीड़ ने बलात्कार के आरोप मे केंद्रीय जेल में बंद एक शख्स को बाहर लाकर पीट-पीटकर मार डाला था। बाद में भीड़ ने शव को शहर के एक चौराहे पर लटका दिया था। 

ये भी पढ़ेंः देश की सभी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:two men accused in rape murder of 5 year old lynched by mob in arunachal pradesh