ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशसामने अंधेरा छा गया...हीटवेव की खबर पढ़ते हुए बेहोश हो गई टीवी ऐंकर

सामने अंधेरा छा गया...हीटवेव की खबर पढ़ते हुए बेहोश हो गई टीवी ऐंकर

दूरदर्शन कोलकाता में एक टीवी ऐंकर हीटवेव की खबर पढ़ने के दौरान ही बेहोश हो गई। बाद में उन्होंने कहा कि ऐसा लगा कि सामने अंधेरा छा गया है और फिर मैं कुर्सी पर ही गिर गई।

सामने अंधेरा छा गया...हीटवेव की खबर पढ़ते हुए बेहोश हो गई टीवी ऐंकर
Ankit Ojhaलाइव हिन्दुस्तान,कोलकाताSun, 21 Apr 2024 08:15 PM
ऐप पर पढ़ें

देश में इस समय हीटवेव का असर देखा जा रहा है। कई जगहों पर तापमान 40 से 46 डिग्री के बीच पहुंच गया है। अप्रैल महीने में इतनी गर्मी की वजह से लोग परेशान हैं। एक टीवी चैनल पर हीटवेव का समाचार बताते हुए ही ऐंकर बेहोश हो गई। जानकारी के मुताबिक लाइव प्रोग्राम के दौरान ही महिला ऐंकर का ब्लड प्रेशर लो हो गया और उसकी आंखों के सामने अंधेरा छा गया। महिला ऐंकर का नाम लोपामुद्रा सिन्हा बताया गया है। 

दूरदर्शन कोलकाता के कार्यक्रम के दौरान हीटवेव की जानकारी देते हुए महिला ऐंकर की तबीयत बिगड़ गई। बाद में ऐंकर ने खुद बताया, ऐसा लगा जैसे टेलीप्रॉम्पटर फेड हो गया है। इसके बाद आंखों के सामने अंधेरा छा गया। सिन्हा ने कहा कि ज्यादा गर्मी और अचानक ब्लड प्रेशर कम होने की वजह से वह बेहोश हो गई थीं। उन्होंने कहा कि कूलिंग सिस्टम में खराबी की वजह से स्टूडियो में बहुत गर्मी हो गई थी। 

उन्होंने कहा कि सुबह के ब्रॉडकास्ट से पहले भी उनका गला सूख रहा था। सिन्हा ने कहा, मैंने कभी अपने पास बॉटल नहीं रखी। चाहे यह 15 मिनट का शो हो या फिर आधे घंटे का। मुझे कभी बीच में पानी पीने की जरूरत ही नहीं महसूस हुई। उन्होने कहा, जब ब्रॉडकास्ट 15 मिनट का बचा तो मेरा गला सूखने लगा। जब टीवी पर विजुअल्स दिखाए जा रहे थे तो मैंने मैनेजर से पानी मांगा। उन्होंने कहा, इसके बाद लगातार उनका फेस टीवी प र आने लगा और उन्हें पानी पीने का मौका ही नहीं मिला। इसमें बीच में कोई बाइट भी नहीं थी। तभी बीच में बाइट आई और मुझे पानी पीने का मौका मिल गया। 

उन्होंने कहा, पानी पीने के बाद किसी तरह दो स्टोरी पूरी की और इसके बाद बेहोश हो गई। तब दो स्टोरी बच भी गई थीं। उन्होंने कहा, इतनी गनीमत थी कि जब टीवी पर 30-40 सेकंड का एनिमेशन चल रहा था तब मैं बेहोश हो ई। उन्होंने कहा कि अंदर रहने के बाद भी गर्मी में तरल पेय लेते रहना  बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा, मैंने सोचा नहीं था कि बुलेटिन के दौरान ऐसा भी हो सकता है। 
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें