ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशविधानसभा सत्र के पहले दिन त्रिपुरा के एक और भाजपा विधायक ने छोड़ी पार्टी

विधानसभा सत्र के पहले दिन त्रिपुरा के एक और भाजपा विधायक ने छोड़ी पार्टी

शाही वंशज और टीआईपीआरए मोथा पार्टी के प्रमुख प्रद्योत किशोर माणिक्य देबबर्मा उनके इस्तीफे के बाद उनके साथ देखे गए। हालांकि बरबू मोहन त्रिपुरा की ओर इस मुद्दे पर कोई बयान जारी नहीं किया गया है।

विधानसभा सत्र के पहले दिन त्रिपुरा के एक और भाजपा विधायक ने छोड़ी पार्टी
Amit Kumarप्रियंका देब बर्मन,अगरतलाFri, 23 Sep 2022 02:55 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

त्रिपुरा में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को शुक्रवार को उस समय बड़ा झटका लगा जब उसके एक विधायक ने इस्तीफा दे दिया। भाजपा विधायक बरबू मोहन त्रिपुरा ने शुक्रवार को शुरू हुए विधानसभा सत्र के पहले ही दिन अपना इस्तीफा दे दिया। वह भगवा पार्टी के चौथे ऐसे विधायक हैं जिन्होंने पिछले साढ़े चार साल में पार्टी छोड़ी है। बरबू मोहन ने करबुक विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के टिकट पर 2018 का विधानसभा चुनाव जीता था।

बरबू मोहन ने स्पीकर रतन चक्रवर्ती को सौंपे गए अपने पत्र में कहा, "मैं 43 (एसटी) कारबुक संविधान सभा की सदस्यता से अपना इस्तीफा देता हूं और आपसे मेरा इस्तीफा स्वीकार करने का अनुरोध करता हूं।" शाही वंशज और टीआईपीआरए मोथा पार्टी के प्रमुख प्रद्योत किशोर माणिक्य देबबर्मा उनके इस्तीफे के बाद उनके साथ देखे गए। हालांकि बरबू मोहन त्रिपुरा की ओर इस मुद्दे पर कोई बयान जारी नहीं किया गया है। लेकिन प्रद्योत ने संवाददाताओं से कहा, "मैं उनके साथ एकजुटता दिखाने आया था। उन्होंने कहा कि वह किसी भी राष्ट्रीय पार्टी के साथ जुड़ने के बजाय तिप्रसा (त्रिपुरा वासियों) के लिए काम करना चाहते हैं।"

इससे पहले, अन्य भाजपा विधायकों में आशीष दास तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए, जबकि सुदीप रॉय बर्मन और आशीष कुमार साहा भगवा पार्टी से कांग्रेस में शामिल हो गए थे। आशीष दास ने बाद में तृणमूल कांग्रेस छोड़ दी और किसी अन्य पार्टी में शामिल नहीं हुए। बीजेपी-आईपीएफटी ने 2018 में पहली बार 44 सीटों के साथ सरकार बनाई थी, जिसमें 36 सीटें बीजेपी को मिलीं और बाकी आठ सीटें आईपीएफटी को मिलीं थीं। एक साल पहले आईपीएफटी विधायक बृषकेतु देबबर्मा ने प्रद्योत किशोर की पार्टी में शामिल होने के लिए पार्टी छोड़ दी थी। विधानसभा ने हाल ही में दलबदल विरोधी कानून का उल्लंघन करने के लिए उनकी सदस्यता को अयोग्य घोषित कर दिया था।

epaper