अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली-मुंबई के बीच रेल सफर हादसों से पूरी तरह सुरक्षित होगा

Train

दिल्ली-मुंबई रेलवे रूट पर देश का पहला ट्रेन एक्सीडेंट फ्री जोन बनने जा रहा है। रेलवे बोर्ड ने विश्व स्तरीय यूरोपियन ट्रेन कंट्रोल सिस्टम (ईटीसीएस) लेवल-2 को लगाने की सैद्धांतिक दे दी है। इस तकनीक विशेषता यह है कि ट्रेनें की आपस में टक्कर नहीं होगी। ड्राइवर की चूक पर ईटीसीएस स्वयं ट्रेन में ब्रेक लगा देगा।

रेल मंत्री पीयूष गोयल की समूचे भारतीय रेल में ईटीसीएस लगाने की महत्वकांक्षी योजना थी, लेकिन प्रधानमंत्री कार्यायल (पीएमओ) के सिग्नल सिस्टम सुधार में स्वदेशी तकनीक को अपनाने का सुझाव दिया था। इसके चलते प्रमुख रेलवे रूट पर यूरोपियन और शेष रूट स्वदेशी तकनीक से सिग्नल सिस्टम को आधुनिक बनाने की योजना पर काम हो रहा है। रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दिल्ली-मुंबई रूट के मथुरा-वडोदरा सेक्शन पर ईटीसीएस लेवल-2 को लगाने की सैद्धांतिक मंजूरी दे दी गई है। इसमें मथुरा-सवाय मोधोपुर-कोटा-रतलाम-नागदा-वडोदरा के बीच लगभग 850 किलोमीटर ईटीसीएस तकनीक लगाई जाएगी। अधिकारी ने बताया कि तकनीक लगाने के लिए जल्द टेंडर जारी किए जांएगे। यह पायलट प्रोजेक्ट होगा। इसकी सफलता के बाद दूसरे प्रमुख रूट पर यूरोपियन तकनीक को लगाया जाएगा।

अधिकारी ने बताया कि पहले यह सिस्टम गजियाबाद से मुगलसराय सेक्शन पर लगाने का प्रस्ताव था। लेकिन, तकनीकी अड़चनों के कारण सेक्शन को बदलकर मथुरा-वडोदरा का चयन किया गया। ईटीसीएस की विशेषता यह होगी कि रेलवे ट्रैक पर लगे सिस्टम की मरम्मत कब करनी है, इसकी जानकारी यह सिस्टम स्वत: देगा। मोबाइल टीमें फील्ड में तैनात रहेंगी। सिस्टम से जानकारी मिलने पर टीम को मौके पर भेजकर मरम्मत कार्य कराया जा सकेगा।

क्या है ईटीसीएस
यूरोपियन ट्रेन कंट्रोल सिस्टम (ईटीसीएस) लेवल-2 अत्याधुनिक तकनीक है। इसमें वायरलेस के जरिए सूचनाएं ट्रेन ड्राइवर को मिलेंगी। तकनीक इंजन के केबिन में लगे स्क्रीन पर सिस्टम आगे चल रही ट्रेन की रफ्तार का अंदाजा स्वत: लगा लगेगी। इसके आधार पर स्क्रीन पर ड्राइवर को सिग्नल हरा, पीला अथवा लाल दिखाई देगा। ईटीसीएस आगे दौड़ती ट्रेन की रफ्तार के आधार पर पीछे वाली ट्रेन की गति तय कर देती है। आगे की ट्रेन रुकने पर सिस्टम लाल सिग्नल दिखाने के साथ अलार्म बजाता है। यदि ड्राइवर ब्रेक नहीं लगाता है तब ट्रेन में ईटीसीएस स्वत: ब्रेक लगा देता है। ट्रेन के इंजन में ब्लैक बॉक्स रहेगा, जो कि ड्राइवर की कंट्रोल रूम से बातचती को रिकार्ड करेगा जिससे मानवीय चूक का पता किया जा सकेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:travel on Delhi-Mumbai rail route will be completely safe from accidents