Transport strike live Updates Truck and bus drivers to go on strike against new traffic law today - Delhi-NCR Transport Strike : ट्रांसपोर्टरों की हड़ताल से लोगों का हुआ बुरा हाल, कैब-ऑटो नहीं मिलने से यात्री परेशान DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Delhi-NCR Transport Strike : ट्रांसपोर्टरों की हड़ताल से लोगों का हुआ बुरा हाल, कैब-ऑटो नहीं मिलने से यात्री परेशान

strike in delhi ncr

1 / 3Strike in Delhi NCR

transport strike in delhi

2 / 3Transport strike in Delhi

 arvind yadav ht photo

3 / 3transport strike (Arvind Yadav/HT PHOTO)

PreviousNext

Delhi Transport Strike: नए यातायात कानून में भारी जुर्माने से नाराज बस-ट्रक और टैक्सी संचालक आज यानी गुरुवार को चक्का जाम कर रहे हैं। पूरे दिल्ली-एनसीआर में व्यावसायिक वाहन नहीं चल रहे हैं। इसलिए अगर आप आने-जाने के लिए ऑटो-टैक्सी का इस्तेमाल करते हैं तो आपका सफर मुश्किलों से भरा हो सकता है। यूनाइटेड फ्रंट ऑफ ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन ने यह हड़ताल बुलाई है। मोटर वाहन संशोधन अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों के विरोध में यूएफटीए संगठन के आह्वान पर आयोजित हड़ताल के कारण बृहस्पतिवार को निजी बस, टैक्सी, ऑटोरिक्शा सड़कों पर नहीं चले जिससे लोगों को सुबह अपने कार्यालय जाने में खासी परेशानी हुई। हड़ताल की वजह से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कई स्कूल बंद हैं। हालांकि दिल्ली मेट्रो और डीटीसी की बसों पर इस बंद का असर नहीं है। यूनाइटेड फ्रंट ऑफ ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन्स (यूएफटीए) ने हड़ताल का आह्वान किया है। इस संगठन के महासचिव श्यामलाल गोला ने कहा कि इस हड़ताल में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के 50 से ज्यादा यातायात संगठन और यूनियन हिस्सा ले रहे हैं।भारतीय मजदूर संघ की ऑटो-टैक्सी यूनियन के महामंत्री राजेंद्र सोनी ने बताया कि पहली बार इतनी बड़ी संख्या में 40 से अधिक संगठन एक मंच पर आकर हड़ताल कर रहे हैं। 

Delhi Transport Strike : 

- शाहदरा इबहास अस्पताल के बाहर आटो स्टैंड पर आटो चालक अश्वनी कुमार ने कहा कि यहां 20 से 25 लोग रोज खड़े होते हैं लेकिन आज हड़ताल है। वह मरीजों को नहीं ले जा रहें हैं। जो जा रहा है वह मनमर्जी से पैसे ले रहे हैं।

delhi transport strike

- दिल्ली एनसीआर में एन एच पर भी हड़ताल का असर दिखा। सड़क पर ऑटो- कैब नहीं मिल रहे हैं। एक ही ऑटो चलता दिख रहा है, जिसमें भी हड़ताल लिखा हुआ है। 
 

delhi strike

- ऑटो न मिलने की वजह से लोग काफी परेशान हैं। सड़क पर इक्का-दुक्का ऑटो वाले नजर आ रहे हैं। कश्मीरी गेट बस अड्डा से फ्रेंडस कॉलोनी जाने के लिए 400 रु का ऑटो किराया है। एप आधारित टैक्सी भी न के बराबर दिख रही हैं।

strike

- नई दिल्ली रेलवे स्टेशन और अन्य जगहों पर लोगों को कैब और ऑटो नहीं मिल पा रहे हैं, जिससे उन्हें खास दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

- गाजियाबाद बस अड्डा पर नोएडा की ओ जाने वाले यात्रियों को सुबह से नहीं मिली कोई बस। 

- नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर कैब नहीं है। यात्री परेशान हो रहे हैं। अपने परिजनों को आकर ले जाने के लिए फोन कर रहे हैं। कुछ के परिजन लेने भी आये हैं। लोग पैदल चलने पर मजबूर हो रेह हैं।

ndls

-दिल्ली-एनसीआर में लोगों को इस हड़ताल की वजह से खासा दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। गाजियाबाद में लोगों को जबरन ऑटो से उतरवााया जा रहा है। 

strike in delhi ncr

रिपोर्ट्स की मानें तो सिर्फ स्कूल ही नहीं, बल्कि नोएडा में कई कंपनियों और इंडस्ट्री ने भी आज काम नहीं करने का ऐलान किया है। साथ ही कुछ स्कूलों में गुरुवार को होने वाली परिक्षाओं को भी स्थगित कर दिया गया है। 

- दिल्ली एनसीआर के कई निजि स्कूलों को बंद कर दिया गया है। लोगों को इस हड़ताल की वजह से आने जाने में खासा दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

- बृहस्पतिवार को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में सुबह लोगों को कार्यालयों तक जाने में परेशानियों का सामना करना पड़ा क्योंकि यूएफटीए संगठन की ओर से आयोजित हड़ताल के बाद निजी बस, टैक्सी, ऑटोरिक्शा सड़कों से नदारद रहे।

दिल्ली में 90 हजार ऑटो और पौने तीन लाख टैक्सी चलती हैं। आजादपुर मंडी ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन भी इस हड़ताल का हिस्सा हैं। दिल्ली सरकार को दूसरे राज्यों की तरह यातायात नियम तोड़ने पर बढ़ी जुर्माना राशि को कम करना चाहिए। वाहन संचालकों का कहना है कि बढ़ी जुर्माना राशि का खामियाजा चालकों और व्यावसायिक वाहन मालिकों को भुगतना पड़ रहा है। ऑल दिल्ली ऑटो टैक्सी ट्रांसपोर्ट कांग्रेस यूनियन के अध्यक्ष किशन वर्मा  सरकार से मांग है कि वह जुर्माना राशि कम करें। गरीब चालक इतनी अधिक जुर्माने की राशि वहन नहीं कर सकता है।

New traffic fines: सड़कों पर नजारे बदले, चालान भी चार गुना कम हो रहे

असर: दिल्ली-एनसीआर के कई स्कूलों में छुट्टी

हड़ताल में स्कूली बसों के चालक भी शामिल होंगे, इसलिए दिल्ली-एनसीआर के ज्यादातर स्कूलों ने गुरुवार को छुट्टी की घोषणा की है। दिल्ली स्कूल कैब वेलफेयर एसोसिएशन के उपाध्यक्ष राकेश चोपड़ा ने बताया कि अभिभावकों को हड़ताल की जानकारी दे दी गई है। दिल्ली में पांच हजार स्कूल कैब पंजीकृत हैं लेकिन बिना पंजीकरण के भी बड़ी संख्या में कैब सड़कों पर दौड़ती है।  जो इस चक्का जाम में शामिल होंगी। जनकपुरी, विकासपुरी, द्वारका, पश्चिम विहार और यमुनापार के कई इलाकों में स्कूलों ने छुट्टी भी घोषित कर दी है। 

सबसे बड़ी जीत का रिकॉर्ड बनाने की तैयारी में भाजपा, बदली रणनीति

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Transport strike live Updates Truck and bus drivers to go on strike against new traffic law today