DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  अभी नहीं कर पाएंगे गोवा की सैर, राज्य में 100 पर्सेंट टीकाकरण तक नहीं मिलेगी छूट
देश

अभी नहीं कर पाएंगे गोवा की सैर, राज्य में 100 पर्सेंट टीकाकरण तक नहीं मिलेगी छूट

हिन्दुस्तान ,पणजीPublished By: Surya Prakash
Thu, 17 Jun 2021 05:35 PM
अभी नहीं कर पाएंगे गोवा की सैर, राज्य में 100 पर्सेंट टीकाकरण तक नहीं मिलेगी छूट

कोरोना से निपटने के लिए लागू पाबंदियों के कम होने पर यदि आप गोवा जाने का प्लान बना रहे हैं तो टाल दीजिए। गोवा सरकार ने राज्य की पूरी वयस्क आबादी के टीकाकरण से पहले टूरिज्म को न खोलने का फैसला लिया है। गोवा के चीफ मिनिस्टर प्रमोद सावंत ने उसके पहले हम पर्यटकों को नहीं आने दे सकते। राज्य में 30 जुलाई तक सभी वयस्क लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य तय किया गया है। एक कार्यक्रम में प्रमोद सावंत ने कहा कि राज्य में अब भी पॉजिटिविटी रेट और कोरोना से मृत्यु दर अधिक है। ऐसे में प्रोटोकॉल में किसी भी तरह की ढील देने से पहले इसे नियंत्रित किए जाने की जरूरत है। 

प्रमोद सावंत ने कहा, 'बीते तीन दिनों में हमने टीका उत्सव का तीसरा राउंड चलाया है, जिसमें 50,000 से ज्यादा लोगों को कोरोना की वैक्सीन दी गई है। हम 31 जुलाई तक पहली डोज का 100 फीसदी लक्ष्य हासिल करना चाहते हैं। इसके लिए 18 साल से अधिक आयु के सभी लोगों को मुफ्त वैक्सीन लेने आगे आना होगा।' उन्होंने कहा कि लोगों की सक्रियता से ही इस टारगेट को हासिल किया जा सकेगा। प्रमोद सावंत ने कहा कि इस लक्ष्य को हासिल करने वाला हम पहले राज्य होंगे। अब तक किसी भी राज्य ने पूरी आबादी के लिए आमतौर पर टीकाकरण की शुरुआत नहीं की है। यदि हमें लोगों का सहयोग मिला तो हम तय समय में पहली डोज का 100 फीसदी लक्ष्य हासिल कर लेंगे। 

सावंत ने कहा कि फिलहाल टूरिज्म की शुरुआत करने का कोई प्लान नहीं है, जब तक कि राज्य में पहली डोज का 100 फीसदी लक्ष्य हासिल नहीं हो जाता। इसे पूरा करने के लिए हमने 30 जुलाई की तारीख तय की है। सावंत ने लोगों से टीका लगवाने की अपील करते हुए कहा, 'हर किसी को कोरोना वैक्सीन लेनी चाहिए और दूसरे लोगों को भी प्रेरित करना चाहिए। आपका टीका लेना ही काफी नहीं है। अपने आसपास के लोगों का भी टीकाकरण कराना जरूरी है।' 

यही नहीं प्रमोद सावंत ने कहा कि टीका लगवाने के बाद भी सावधानी बरतना जरूरी है। उन्होंने कहा, 'हमें अब भी सावधानी बरतने की जरूरत है। पॉजिटिविटी रेट को नीचे लाने की जरूरत है। इसे 5 फीसदी से कम पर लाना होगा। मृत्यु दर में कमी आने और वैक्सीनेशन की गति में इजाफा किए जाने की जरूरत है।' 

संबंधित खबरें