Timeline of Assam NRC List From 1950 To 31st August 2019 - 1950 से 31 अगस्त 2019 तक, असम एनआरसी लिस्ट में कब क्या हुआ DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

1950 से 31 अगस्त 2019 तक, असम एनआरसी लिस्ट में कब क्या हुआ

          bjp                      nrc                                                   10                           afp file photo

एनआरसी की अंतिम सूची जारी कर दी गई है। सूची में जगह न पाने वाले लोगों के पास इसके खिलाफ अपील करने के विकल्प होंगे। विदेशी न्यायाधिकरण से लेकर उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय तक वे एनआरसी में जगह न मिलने पर अपील कर सकेंगे। यही नहीं सभी कानूनी विकल्पों को आजमाने तक उनके खिलाफ सरकार कोई कार्रवाई नहीं कर सकेगी। 

एनआरसी मामले में अब तक क्या हुआ:

1950 : बंटवारे के बाद तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान से असम में बड़ी संख्या में शरणार्थियों के आने के बाद प्रवासी (असम से निष्कासन) अधिनियम लागू किया गया।
1951 : स्वतंत्र भारत की पहली जनगणना हुई। इसके आधार पर पहला एनआरसी तैयार किया गया।
1957 : प्रवासी (असम से निष्कासन) कानून निरस्त किया गया।
1964-1965 : पूर्वी पाकिस्तान में अशांति के कारण वहां से शरणार्थी बड़ी संख्या में आए।
1971 : पूर्वी पाकिस्तान में दंगों और युद्ध के कारण फिर से बड़ी संख्या में शरणार्थी आए। स्वतंत्र बांग्लादेश अस्तित्व में आया।

असमंजस : एनआरसी अंतिम सूची में मां भारतीय, तो बेटियां हुईं विदेशी!

1979-1985 : विदेशियों की पहचान कर उनके निर्वासन के लिए असम से छह साल आंदोलन चला जिसका नेतृत्व अखिल असम छात्र संघ (आसू) ने किया।
1983 : मध्य असम के नेल्ली में नरसंहार हुआ जिसमें 3000 लोगों की मौत हुई। अवैध प्रवासी (न्यायाधिकरण द्वारा निर्धारण) अधिनियम पारित किया गया।
1985 : तत्कालीन पीएम राजीव गांधी की मौजूदगी में केंद्र-राज्य सरकार के बीच असम समझौते पर हस्ताक्षर। कहा गया, 25 मार्च 1971 को या उसके बाद आए विदेशियों को निष्कासित किया जाएगा।

एनआरसी लिस्ट: घुसपैठियों की पहचान के लिए असम बनेगा मॉडल

1997 : निर्वाचन आयोग ने उन मतदाताओं के नाम के आगे ‘डी’ (संदेहास्पद) जोड़ने का फैसला किया जिनके भारतीय नागरिक होने पर शक था।
2005 : उच्चतम न्यायालाय ने अवैध प्रवासी पहचान ट्रिब्यूनल (आईएमडीटी) कानून को असंवैधानिक घोषित किया।
2009 : गैर सरकारी संगठन असम पब्लिक वर्क्स ने मतदाता सूची से विदेशियों के नाम हटाए जाने और एनआरसी के अद्यतन की अपील की।
2010 : एनआरसी के अद्यतन के लिए चायगांव, बारपेटा में प्रायोगिक परियोजना शुरू हुई। बारपेटा में हिंसा में चार लोगों की मौत हुई। परियोजना बंद कर दी गई।
2013 : उच्चतम न्यायालय ने एपीडब्ल्यू की याचिका की सुनवाई की। केंद्र, राज्य को एनआरसी के अद्यतन की प्रक्रिया आरंभ करने का आदेश दिया।

NRC List से बाहर 19 लाख लोगों के पास अब क्या है विकल्प

2015 : एनआरसी अद्यतन की प्रक्रिया शुरू की गई।
2017 : 31 दिसंबर को मसौदा एनआरसी प्रकाशित हुआ जिसमें 3.29 करोड़ आवेदकों में से 1.9 करोड़ के नाम प्रकाशित किए गए।
30 जुलाई, 2018 : एनआरसी की एक और मसौदा सूची जारी की गई। इसमें 2.9 करोड़ लोगों में से 40 लाख के नाम शामिल नहीं किए गए।
26 जून 2019 : 1,02,462 लोगों की अतिरिक्त मसौदा निष्कासन सूची प्रकाशित। और 31 अगस्त को अंतिम एनआरसी सूची जारी की गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Timeline of Assam NRC List From 1950 To 31st August 2019