DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनाव आयोग ने बीते लोकसभा चुनाव की तुलना में इस बार पकड़ी 20 गुना अधिक नकदी

eci

लोकसभा चुनाव में नकदी, जेवर और शराब बीते चुनावों की तुलना में कई गुना पकड़ी गई है। चुनाव आयोग ने अलग-अलग जगहों पर टीम लगाकर चुनाव में शराब, नकदी और सोने के इस्तेमाल पर रोक लगाने का प्रयास किया है। दिल्ली राज्य निर्वाचन आयोग ने इस लोकसभा चुनाव में बड़ी मात्रा में नकदी जब्त की है। आयोग के अनुसार आदर्श आचार संहिता के दौरान दिल्ली से कुल 34 करोड़ से अधिक की नकदी पकड़ी है। जो बीते लोकसभा चुनावों की तुलना में 20 गुना अधिक है।

दिल्ली राज्य निर्वाचन आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार 10 मार्च को आम चुनावों की घोषणा होने के साथ ही दिल्ली समेत देशभर में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई थी। जिसमें चुनाव में नकदी का प्रभाव रोकने के लिए आयोग की तरफ से विशेष कदम उठाए गए। जिसके तहत कई टीमें गठित की गई, तो वहीं आईटी विभाग का भी सहयोग लिया गया। नतीजतन 10 मई तक 344623105 रुपये से अधिक की नकदी जब्त की गई। जबकि वर्ष 2014 में संपन्न हुए चुनाव के दौरान कुल 17110300 रुपये की नकदी ही पकड़ी गई थी।

बड़़ी मात्रा में ज्वैलरी भी जब्त
इस चुनाव में आयोग ने नकदी के साथ ही बड़ी मात्रा में ज्वैलरी भी जब्त की है। आयोग के अनुसार आचार संहिता के दौरान कुल 99821972 रुपये की ज्वैलरी जब्त की गई है, जबकि वर्ष 2014 में संपन्न हुए चुनावों में कुल 2000000 रुपये की ज्वैलरी पकड़ी गई थी।

लोकसभा चुनाव 2019: चुनाव आयोग ने एग्जिट पोल संबंधी ट्वीट हटाने को कहा

दस गुना अधिक अवैध शराब भी जब्त
आयोग ने वर्ष 2014 में संपन्न हुए लोकसभा चुनावों की तुलना में इस बार दस गुना अधिक अवैध शराब पकड़ी है। आयोग से मिली जानकारी के अनुसार इस चुनाव में कुल 139906 लीटर अवैध शराब पकड़ी गई। जिसका बाजार मूल्य पौने चार करोड़ रुपये से अधिक है, जबकि वर्ष 2014 के चुनाव में 13868 लीटर अवैध शराब पकड़ी गई थी, जिसका बाजार भाव 24 लाख से अधिक था। 

साल         2019                 2014
नकदी         34 करोड                 1.7 करोड
जेवर         10 करोड                 20 लाख
शराब                     1.39 लाख लीटर 13.8 हजार लीटर

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:This time the Election Commission has caught 20 times more cash than the last Lok Sabha election