DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जम्मू कश्मीर के संवैधानिक दर्जे से कोई छेड़छाड़ नहीं होना चाहिए : महबूबा मुफ्ती

 Mehbooba Mufti (AP File Photo)

पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने शुक्रवार को कहा कि जम्मू कश्मीर में एक लोकप्रिय सरकार का गठन होने तक राज्य के संवैधानिक दर्जे से कोई छेड़छाड़ नहीं की जानी चाहिए। महबूबा ने कहा कि जम्मू कश्मीर बैंक के साथ सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (पीएसयू) जैसा बर्ताव करने का फैसला, राज्य सूची के नियमों की प्रक्रिया में बदलाव करने और रोशनी योजना को रद्द करने तथा किशोर (न्याय) अधिनियम में बदलाव करने की खबरों के पीछे एक ''छिपा हुआ एजेंडा नजर आता है।
 
पूर्व मुख्यमंत्री ने यहां संवाददाताओं से कहा, ''हम राज्यपाल (सत्यपाल मलिक) का आदर करते हैं, (लेकिन) वह क्यों लोकतांत्रिक मूल्यों का अतिक्रमण कर रहे हैं? इन मुद्दों पर कोई आपात स्थिति नहीं आई है। चुनाव होने पर एक नयी सरकार का गठन होने के बाद यह किया जा सकता है। ऐसा लगता है कि शायद किसी का छिपा हुआ एजेंडा है, मुझे आशा है कि राज्यपाल इसका हिस्सा नहीं होंगे ... राज्य के संवैधानिक दर्जे के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा, ''दुर्भाग्य से राज्यपाल की टीम उन्हें (मलिक को) सही सलाह नहीं देती, अन्यथा वह कोई ऐसा फैसला नहीं करते जिसे बाद में रद्द करना पड़े। इस तरह का फैसला एक लोकप्रिय सरकार के लिए छोड़ देना चाहिए। महबूबा ने चेतावनी दी कि यदि मलिक नीत राज्य प्रशासन पीर पंजाल और चेनाब घाटी को नजरअंदाज कर लद्दाख क्षेत्र को संभागीय दर्जा देता है तो आंदोलन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि वह इस मुद्दे पर अन्य पार्टियों के साथ भी बात करेंगी।

CG Election Exit Poll: बीजेपी-कांग्रेस में कांटे का मुकाबला, अजीत जोगी पर रहेगी नजर

यूपी में कोई मॉब लिंचिंग नहीं, बुलंदशहर एक 'दुर्घटना'- योगी आदित्यनाथ 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:There should be no tampering with Jammu and Kashmir constitutional status says Mehbooba mufti