DA Image
Saturday, November 27, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशकोरोना की दूसरी लहर के बाद लोगों की आवाजाही बढ़ी, गूगल मोबिलिटी रिपोर्ट से समझें हालात

कोरोना की दूसरी लहर के बाद लोगों की आवाजाही बढ़ी, गूगल मोबिलिटी रिपोर्ट से समझें हालात

सौरभ शुक्ल,नई दिल्लीShankar Pandit
Sun, 17 Oct 2021 06:31 AM
कोरोना की दूसरी लहर के बाद लोगों की आवाजाही बढ़ी, गूगल मोबिलिटी रिपोर्ट से समझें हालात

देश में कई राज्यों में कोरोना की दूसरी लहर का प्रभाव घटने के बाद लोगों की आवाजाही घरों के करीब सिमटे रहने के बजाय सार्वजनिक और काम की जगहों पर बढ़नी शुरू हो गई है। साथ ही अब लोगों ने पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर करना भी शुरू कर दिया है। देश के कई राज्यों में इनका इस्तेमाल राष्ट्रीय औसत के मुकाबले ज्यादा हो रहा है। ये रूझान गूगल मोबिलिटी रिपोर्ट के 10 अक्तूबर को जारी आकलन के आधार पर है।

रिपोर्ट के अनुसार, अभी भी किराना और दवा की दुकानों के पास ही आवाजाही सबसे ज्यादा है। पार्कों, खाने-पीने और मनोरंजन की जगहों पर लोग ज्यादा नहीं जा रहे हैं। रिपोर्ट में बताए गए राष्ट्रीय औसत के मुताबिक, बेसलाइन यानी 3 जनवरी से 6 फरवरी 2020 के दौरान के औसत के मुकाबले खाने-पीने और मनोरंजन की जगहों पर लोगों की आवाजाही 6 फीसदी कम है। हालांकि, कई राज्यों में इसमें इजाफा भी देखा गया है। 

ये आंकड़ा यूपी 1, दिल्ली में 16, हरियाणा में 4 और झारखंड में जहां 9 फीसदी कम है तो वहीं बिहार में 14 और उत्तराखंड में 13 फीसदी ज्यादा है। किराना और फार्मेसी की बात की जाए तो देशभर में यहां आवाजाही 38 फीसदी ज्यादा है। यूपी में 55, दिल्ली में 20, बिहार में 59, हरियाणा में 35, उत्तराखंड में 50 और झारखंड में 49 फीसदी ज्यादा है। इसके अलावा पार्कों में हरियाणा को छोड़कर सभी राज्यों में इसमें बढ़त देखी गई है।

बस-रेलवे स्टेशन : उत्तराखंड में आवाजाही सबसे अधिक
सार्वजनिक परिवहन इस्तेमाल करने के साथ-साथ बस स्टैंड और रेलवे स्टेशन की आवाजाही के रुझान राष्ट्रीय स्तर पर 11 फीसदी है। वहीं, यूपी में 19, दिल्ली में 3 बिहार में 32, हरियाणा में 5, उत्तराखंड में 56 और झारखंड में इसमें बेसलाइन से 23 फीसदी का इजाफा देखा गया है।

कार्यस्थल : बिहार में राष्ट्रीय औसत से भी ज्यादा वृद्धि
काम करने की जगहों के आसपास आवाजाही की बात की जाए तो बिहार में तो इसमें राष्ट्रीय औसत से भी ज्यादा वृद्धि देखी गई है। पूरे देश में 8 फीसदी लोगों की आवाजाही बेसलाइन के मुकाबले बढ़ी है। वहीं, दिल्ली में ये 2 तो झारखंड में एक फीसदी गिरी है। यूपी में इसमें बेसलाइन से 6, बिहार में 10, हरियाणा में 7 और उत्तराखंड में 4 फीसदी का इजाफा देखा गया है।

घर के आसपास : झारखंड में 9 फीसदी की बढ़ोतरी
घर के आसपास की आवाजाही की बात की जाए तो पूरे देश में इसमें औसत 6 फीसदी की वृद्धि हुई है। वहीं, यूपी में 8, दिल्ली में 3, बिहार में 8, हरियाणा में 4, उत्तराखंड में 7 और झारखंड में 9 फीसदी की वृद्धि देखी गई है। साथ ही केरल समेत दूसरे जिन राज्यों में कोरोना का प्रभाव अभी भी ज्यादा है वहां पर पब्लिक ट्रांसपोर्ट के इस्तेमाल में कमी देखी जा रही है।

आंकड़े देश यूपी दिल्ली बिहार हरियाणा उत्तराखंड झारखंड
मनोरजंन की जगहें -6% -1% -16% +14% -4% +13% -9%

किराना, फार्मेसी +38% +55% +20% +59% +35% +50% +49%
पार्क +5% +19% -28% +23% -15% +33% +8%

पब्लिक ट्रांसपोर्ट +11% +19% +3% +32% +5% +56% +23%
काम की जगहें +8% +6% -2% +10% +7% +4% -1%

घर, मकान +6% +8% +3% +8% +4% +7% +9%

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें