ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशथार में बंदूक लहराकर करता था युवती का पीछा, हाईकोर्ट ने सिरफिरे आशिक को दिया झटका

थार में बंदूक लहराकर करता था युवती का पीछा, हाईकोर्ट ने सिरफिरे आशिक को दिया झटका

High Court News: पीड़िता ने पुलिस को बताया कि आरोपी सतनाम सिंह ने, 'मुझे बंदूक की नोक पर उसका नंबर लेने के लिए धमकाया, लेकिन मैंने उसका नंबर नहीं लिया।' कोर्ट ने आरोपी को राहत नहीं दी।

थार में बंदूक लहराकर करता था युवती का पीछा, हाईकोर्ट ने सिरफिरे आशिक को दिया झटका
Nisarg Dixitलाइव हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Thu, 16 May 2024 10:25 AM
ऐप पर पढ़ें

High Court News: बंदूक लहराकर और जीप में एक युवती का पीछा करने वाले को पंजाब  और हरियाणा उच्च न्यायालय ने राहत देने से इनकार कर दिया। अदालत का कहना है कि वह अग्रिम जमानत की छूट के लायक नहीं है। आरोपी कथित तौर पर थार जीप में कक्षा 12वीं में पढ़ने वाली एक युवती का पीछा करता था और उसे जबरन अपना नंबर देने की कोशिश की थी। कोर्ट ने ऐसी हरकतों की रोकथाम का आह्वान किया है।

इस मामले की सुनवाई जस्टिस सुमित गोयल कर रहे थे। अदालत का कहना है कि यह जरूरी है कि समाज में रहने वाला हर व्यक्ति अपने आसपास बगैर डर का माहौल बने रहने की उम्मीद करता है। कोर्ट ने कहा कि किसी भी व्यक्ति के साथ ऐसी कोई भी हरकत समाज और परिवार पर बुरा असर डालती है। कोर्ट ने कहा, 'एक आदमी जो बंदूक लहराते हुए एक युवती का पीछा क रहा है, वह एक खतरा पैदा कर सकता है जो पीड़िता और उसके परिवार के लिए आघात का कारण बना सकता है।'

क्या था मामला
बार एंड बेंच की रिपोर्ट के अनुसार, मौजूदा मामले में पीड़िता की शिकायत के बाद आरोपी के खिलाफ पंजाब में मोगा पुलिस ने केस दर्ज किया था। पीड़िता ने पुलिस को बताया था कि 3 मार्च को जब वह परीक्षा के बाद घर लौट रही थी, तब आरोपी अपने तीन साथियों के साथ आया और बाजार के पास उसका पीछा करने लगा। साथ ही उसने पीड़िता को नंबर देने की भी कोशिश की।

पीड़िता ने पुलिस को बताया कि आरोपी सतनाम सिंह ने, 'मुझे बंदूक की नोक पर उसका नंबर लेने के लिए धमकाया, लेकिन मैंने उसका नंबर नहीं लिया।' आरोपी की तरफ से पेश हुए वकील का कहना है कि उसे मामले में झूठा फंसाया जा रहा है। साथ ही उन्होंने बगैर स्पष्ट वजह से केस देरी से करने की बात भी कही। कोर्ट को जानकारी दी गई कि सिंह शादीशुदा और उसका एक बच्चा भी है।

कोर्ट ने पाया कि पूरी घटना सीसीटीवी में रिकॉर्ड हुई है। इसके बाद आरोपी की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें