DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › गणतंत्र दिवस: किसानों की ट्रैक्टर रैली रोकने के लिए करनाल बाइपास पर रातोंरात खड़ी की अस्थाई दीवार
देश

गणतंत्र दिवस: किसानों की ट्रैक्टर रैली रोकने के लिए करनाल बाइपास पर रातोंरात खड़ी की अस्थाई दीवार

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Mrinal Sinha
Tue, 26 Jan 2021 08:36 AM
गणतंत्र दिवस: किसानों की ट्रैक्टर रैली रोकने के लिए करनाल बाइपास पर रातोंरात खड़ी की अस्थाई दीवार

आज देशभर में गणतंत्र दिवस मनाया जा रहा है। 72वें गणतंत्र दिवस के मौके पर आज सुबह राजपथ पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद तिरंगा फहराएंगे और परेड की सलामी लेंगे। इस बीच सुरक्षा करणों के चलते बाहर से आ रहे वाहनों को रोकने के लिए करनाल बाइपास पर एक अस्थाई दीवार खड़ी की गई है। कोरोना के चलते इस बार 26 जनवरी को होने वाली गणतंत्र दिवस परेड में कई बदलाव किए गए हैं। एक तो कोविड- 19 की वजह से परेड की लंबाई कम की गई है, वहीं वहीं इस बार 25 हजार लोग ही कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे।

कोरोना काल के चलते इस बार देश के 72वें गणतंत्र दिवस पर कोई विदेशी मेहमान बतौर चीफ गेस्ट नहीं होगा। दशकों बाद ऐसा पहली बार हो रहा है, जब इस वर्ष गणतंत्र दिवस पर किसी भी देश के सरकार का प्रमुख हमारे गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल नहीं हो रहा है। 

दरअसल, पिछले पांच दशकों में पहली बार ऐसा हो रहा है जब कोई राष्ट्राध्यक्ष 26 जनवरी की परेड देखने नहीं आ रहे हैं। हालांकि, इससे पहले तीन बार ऐसे मौके आए हैं। पहले भारत की ओर से ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को न्योता भेजा था। कोविड की वजह से ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के अंतिम मौके पर समारोह में न आने के फैसले के बाद भारत ने विदेशी मेहमान को न्योता न देने का मन बना लिया था।

गौरतलब है कि 26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान लागू हुआ था और इस दिन को हर साल गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। देश की राजधानी में राजपथ पर देश की सैन्य ताकत के साथ सांस्कृतिक विविधता को प्रदर्शित किया जाता है। परेड में हर बार एक विदेशी राष्ट्राध्यक्ष को चीफ गेस्ट बनाने की परंपरा रही है। कुछ ऐसे भी मौके आए जब एक से अधिक मेहमानों को बुलाया गया।

संबंधित खबरें