अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सर्वे: देश के भ्रष्ट राज्यों में तेलंगाना दूसरे और आंध्र प्रदेश चौथे नंबर, जानें अव्वल कौन

corruption

1 / 2corruption

Corrupt state

2 / 2Corrupt state

PreviousNext

देश में भ्रष्टाचार को लेकर भले ही कई कदम उठाए गए हो लेकिन कई राज्यों में इसको लेकर स्थिति बेहद खराब है। सीएमएस-इंडिया करप्शन स्टडी 2018 के मुताबिक, सार्वजनिक सेवा के क्षेत्र में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई में सुस्तता को लेकर तेलंगाना दूसरे नंबर पर है।  

शुक्रवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक भ्रष्टाचार की सूची में आंध्र प्रदेश चौथे नंबर पर है। इस स्टडी में यह भी पाया गया कि कुछ राज्य जैसे महाराष्ट्र, दिल्ली, गुजरात, बिहार और तेलंगाना में लोगों की सक्रियता बहुत ज्यादा है। जबकि, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में समाज की भूमिका और उनकी सजगता कम है।

सीएमएस इंडिया के आलोक श्रीवास्तव ने एक अखबार से बात करते हुए बताया कि यह 12वें दौर का सर्वे था। इसमें कई तरह के सब-इंडिकेटर का  इस्तेमाल किया गया था। तमिलनाडु भ्रष्ट राज्यों की सूची में अव्वल स्थान पर था। जिन राज्यों में भ्रष्टाचार ज्यादा है वहां पर कानून का ठीक तरह से पालन करने की आवश्यकता है।

स्टडी के दौरान तेलंगाना में 73 प्रतिशत घरों में लोगों ने यह माना कि पिछले एक साल के दौरान सार्वजनिक सेवा के उपयोग के लिए उन्हें अधिकारियो को घूस देनी पड़ी है। कुल मिलाकर अगर देखें तो करीब 75 फीसदी देश के घरों का ऐसा मानना है कि पिछले एक साल के दौरान सार्वजनिक सेवा के क्षेत्र में भ्रष्टाचार या तो बढ़ा है या फिर बराबर है।  

ट्रांसपोर्ट, पुलिस, हाउसिंग, लैंड रिकॉर्ड्स, हेल्थ और हॉस्पीटल ये ऐसे क्षेत्र हैं जहां पर सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार सामने आया। सबसे खास बात ये रही कि सर्वे में सात फीसदी लोगों ने यह कहा कि उन्होंने आधार कार्ड के लिए भी घूस दी है। जबकि, तीन फीसदी लोगों ने कहा कि उन्होंने वोटर कार्ड के लिए घूस दी।

ये भी पढ़ें: कर्नाटक : 'हॉर्स ट्रेडिंग' को लेकर चेतन भगत ने कह दी ये बात, मचा बवाल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Telangana second and Andhra Pradesh at fourth in terms of corruption says survey