ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशभाई-बहन से लेकर पति-पत्नी को टिकट, तेलंगाना विधानसभा चुनाव में कैसे हावी परिवारवाद

भाई-बहन से लेकर पति-पत्नी को टिकट, तेलंगाना विधानसभा चुनाव में कैसे हावी परिवारवाद

KCR के बेटे और बीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष केटी रामाराव फिर सिरसिला से चुनाव लड़ रहे हैं। सीएम के भतीजे और राज्य के वित्त व स्वास्थ्य मंत्री टी हरीश राव भी सिद्दिपेट सीट से फिर चुनाव लड़ रहे हैं।

भाई-बहन से लेकर पति-पत्नी को टिकट, तेलंगाना विधानसभा चुनाव में कैसे हावी परिवारवाद
Niteesh Kumarएजेंसी,हैदराबादSun, 12 Nov 2023 06:13 PM
ऐप पर पढ़ें

तेलंगाना विधानसभा चुनाव में इस बार एक ही परिवार के कई सदस्यों (जैसे भाई-बहन या पति-पत्नी) को मैदान में उतारा गया है। यह परिपाटी लगभग सभी पार्टियों में देखी गई। खासकर, सत्तारूढ़ भारत राष्ट्र समिति (BRS) और विपक्षी दल कांग्रेस में। अक्सर वंशवादी शासन के आरोपों का सामना करने वाले बीआरएस की ओर से मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव इस बार गजवेल और कामारेड्डी से चुनाव लड़ रहे हैं। केसीआर के बेटे और बीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष केटी रामाराव फिर सिरसिला से चुनाव लड़ रहे हैं। सीएम के भतीजे और राज्य के वित्त व स्वास्थ्य मंत्री टी हरीश राव भी सिद्दिपेट सीट से फिर चुनाव लड़ रहे हैं।

रामा राव ने पहले कहा था कि किसी प्रमुख नेता के परिवार के सदस्यों और उनके बच्चों का राजनीति में आना कोई असामान्य बात नहीं है, क्योंकि डॉक्टर और एक्टर के बच्चे भी तो अपने माता-पिता की विरासत को अपनाते हैं। कांग्रेस ने हुजूरनगर क्षेत्र में पार्टी सांसद एन उत्तम कुमार रेड्डी को मैदान में उतारा है, जबकि उनकी पत्नी एन पद्मावती वर्तमान विधानसभा चुनाव में कोडाद से चुनाव लड़ रही हैं। मौजूदा विधायक मयनामपल्ली हनुमंत राव फिर से हैदराबाद के मलकाजगिरी से चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि उनके बेटे रोहित राव मेदक सीट अपना पहला विधानसभा चुनाव लड़ रहे हैं।

कांग्रेस ने 2 भाइयों को भी चुनावी मैदान में उतारा 
हनुमंत राव को चुनाव लड़ने के लिए बीआरएस की ओर से फिर से नामित किया गया था। हालांकि, अपने और बेटे के लिए टिकट मिलने के बाद उन्होंने बीआरएस छोड़ दी और कांग्रेस में शामिल हो गए। कांग्रेस के लोकसभा सदस्य कोमाटिरेड्डी वेंकट रेड्डी को नलगोंडा सीट से पार्टी का उम्मीदवार घोषित किया गया है, जबकि उनके भाई कोमाटिरेड्डी राज गोपाल रेड्डी अपनी किस्मत मुनुगोडे सीट से आजमा रहे हैं। कांग्रेस की ओर से 2 भाइयों को भी चुनावी मैदान में उतारा गया है। जी विवके को चेन्नूर और उनके भाई जी विनोद को बेल्लमपल्ली से टिकट दिया गया है।

परिवारवाद के आरोपों पर गरमाई राजनीति
कांग्रेस की ओर से अपने घोषणापत्र के तहत 'एक परिवार, एक टिकट' के संकल्प पर अमल नहीं करने को लेकर बीआरएस की ओर से उस पर लगातार निशाना साधा जा रहा है। बीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष केटी रामाराव ने 10 नवंबर को कहा, 'कांग्रेस ने घोषणापत्र जारी करके कहा था कि प्रति परिवार केवल एक टिकट। क्या वे तेलंगाना में उस पर कायम हैं? उन्होंने कितने परिवारों को टिकट दिए हैं? मयनामपल्ली हनुमंत राव और उनके बेटे, उत्तम कुमार रेड्डी और उनकी पत्नी, कोमाटिरेड्डी बंधु और कई अन्य।' रामा राव ने कहा कि घोषणाएं करने का क्या मतलब है? जब आप में घोषणाओं को लागू करने के प्रति ईमानदारी नहीं है।