ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशअफसर है या कुबेर! अब तक छापे में मिली 100 करोड़ रुपये की दौलत, कैसे बनाया माल

अफसर है या कुबेर! अब तक छापे में मिली 100 करोड़ रुपये की दौलत, कैसे बनाया माल

जब्त की गई चीजों में 40 लाख रुपये नगद, 2 kg सोने की ज्वैलरी, 60 महंगी घड़ियां, संपत्ति के दस्तावेज, बड़े बैंक डिपॉजिट, 14 मोबाइल फोन, 10 लैपटॉप और कई इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स शामिल हैं।

अफसर है या कुबेर! अब तक छापे में मिली 100 करोड़ रुपये की दौलत, कैसे बनाया माल
Nisarg Dixitलाइव हिन्दुस्तान,हैदराबादThu, 25 Jan 2024 06:56 AM
ऐप पर पढ़ें

तेलंगाना के एक अधिकारी के घर छापा मारने पहुंची ACB यानी एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम के हाथ बुधवार को खजाना लग गया। खबर है कि तेलंगाना स्टेट रियल एस्टेट मैनेजमेंट अथॉरिटी (TSRERA) के सचिव शिव बालकृष्ण के पास 100 करोड़ रुपये से ज्यादा की आय से अधिक संपत्ति मिली है। संभावनाएं जताई जा रही हैं कि जांच गुरुवार को भी जारी रह सकती है। सवाल है कि आखिर धन का पहाड़ आखिर कैसे खड़ा कर दिया।

क्या क्या मिला
ACB अधिकारियों को तलाशी के दौरान सोना, फ्लैट्स, बैंक डिपॉजिट और बेनामी संपत्ति मिली है। इनकी कीमत 100 करोड़ रुपये से अधिक बताई जा रही है। जब्त की गई चीजों में 40 लाख रुपये नगद, 2 किलो सोने की ज्वैलरी, 60 महंगी घड़ियां, संपत्ति के दस्तावेज, बड़े बैंक डिपॉजिट, 14 मोबाइल फोन, 10 लैपटॉप और कई इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स शामिल हैं।

बुधवार सुबह करीब 5 बजे शुरू हुई जांच के दौरान  अधिकारियों ने बालकृष्ण के रिश्तेदारों के आवास और दफ्तरों पर भी दबिश दी। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ACB को शुरुआती जांच में पता चला है कि बालकृष्ण ने कई रियल ऐस्टेट कंपनियों को कथित तौर पर परमिट दिलाकर करोड़ रुपये बनाए हैं।

अधिकारियों ने गुरुवार को भी रेड जारी रहने के संकेत दे दिए हैं। बालकृष्ण के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। आशंका जताई जा रही है कि TSRERA अधिकारी ने अपने पद का दुरुपयोग कर इतनी संपत्ति जुटाई है। फिलहाल, जांच एजेंसी बालकृष्ण के बैंक लॉकर और दूसरी अघोषित संपत्तियों की जांच भी कर रही है। इससे पहले बालकृष्ण हैदराबाद मेट्रोपोलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी (HMDA) के निदेशक भी रह चुके हैं।

यहां भी मिला खजाना
बीते साल दिसंबर में आयकर विभाग ने कांग्रेस नेता धीरज साहू के भाई के ओडिशा के बालनगीर में ठिकानों पर छापेमारी की थी। उस दौरान जांच में 300 करोड़ रुपये से ज्यादा नगद मिला था। अक्टूबर में आयकर विभाग बेंगलुरु में कई जगहों पर रेड कर 42 करोड़ रुपये का पता लगाया था। यह फ्लैट BBMP कॉन्ट्रेक्टर्स एसोसिएशन के तत्कालीन अध्यक्ष आर अंबिकापति से जुड़े थे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें