DA Image
4 मार्च, 2021|1:47|IST

अगली स्टोरी

वाराणसी सीट से नामांकन खारिज होने के बाद SC पहुंचे तेज बहादुर, जानें कौन करेगा पैरवी

 dismissed bsf jawan tej bahadur yadav

वाराणसी (Varanasi) से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार तेज बहादुर (Tej Bahadur) ने नामांकन रद्द (Nomination Cancel) होने के बाद सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। आपको बता दें कि वाराणसी लोकसभा सीट से तेज बहादुर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए पहले निर्दलीय खड़ा हुआ था जिसे बाद में सपा ने अपना चुनाव चिन्ह दिया था। तेज बहादुर ने चुनाव आयोग के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है और उसकी तरफ से एडवोकेट प्रशांत भूषण पेश हुए। 

झारखंड में एक युवक ने 105 साल की मां को कंधे पर ले जाकर डलवाया वोट

तेज बहादुर यादव ने जवानों को दिए जाने वाले भोजन के बारे में शिकायत करते हुए एक वीडियो ऑनलाइन पोस्ट किया था जिसके बाद 2017 में उसे बल से से बर्खास्त कर दिया गया था।  सपा ने तेज बहादुर को वाराणसी संसदीय सीट से प्रत्याशी बनाया है।

बहरहाल, निर्वाचन अधिकारी ने यादव का नामांकन पत्र यह कहते हुए खारिज कर दिया कि उसने वह प्रमाणपत्र जमा नहीं किया जिसमें यह स्पष्ट किया गया हो कि उसने भ्रष्टाचार या विश्वासघात की वजह से बर्खास्त नहीं किया गया। तेज बहादुर यादव ने अपनी याचिका में कहा है कि आयोग का निर्णय भेदभावपूर्ण और अतार्किक है तथा इसे खारिज किया जाना चाहिए। सपा ने शुरू में मोदी के खिलाफ शालिनी यादव को टिकट दिया था लेकिन बाद में उसने प्रत्याशी बदल कर, बीएसएफ के बर्खास्त जवान तेज बहादुर को वाराणसी संसदीय सीट से उम्मीदवार बनाया।

प्रियंका पर स्मृति ईरानी का वार-अब पति का कम, मेरा नाम ज्यादा लेती हैं

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Tej Bahadur Yadav challenging rejection of his nomination from Varanasi Lok Sabha Constituency