DA Image
3 जून, 2020|12:15|IST

अगली स्टोरी

चाय, बिरयानी, राष्ट्रगान, कुछ इस तरह शाहीन बाग पर CAA के खिलाफ विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने किया 2020 का स्वागत

                                                                                                                              caa

संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ जामिया मिल्लिया इस्लामिया के बाहर गाने गाकर लोग बुधवार की मध्यरात्रि से कुछ मिनटों पहले विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। लेकिन घड़ी में 12 बजते ही यह माहौल बदल गया। हिजाब पहने अपने बच्चों के साथ युवतियां, तिरंगा फहराते हुए युवक खड़े हुए और सभी लोग राष्ट्रगान गाने लगे। इसके खत्म होने के बाद वहां 'भारत माता की जय' और 'इंकलाब जिंदाबाद' के नारे लगने लगे।

जामिया के छात्रों द्वारा आयोजित किए गए न्यू ईयर रिजॉल्यूशन प्रोग्राम में कक्षा आठ की छात्रा अलीजा हैदर भी शामिल थी। उसके एक हाथ में मोमबत्ती थी तो दूसरे हाथ में प्लेकार्ड था। अलीजा हैदर ने कहा कि वैसे तो हम नए साल का जश्न मनाने के लिए न्यू फ्रैंड्स कॉलोनी कम्युनिटी सेंटर जाते हैं। लेकिन इस साल हम यहां आए हैं क्योंकि यह ज्यादा जरूरी था। संविधान के निर्माण में काफी मेहनत लगी है और हम इसे किसी को बदलने नहीं देंगे।

हैदर की तरह कई सौ लोग नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। यह विरोध प्रदर्शन जामिया मिल्ल्यिा इस्लामिया में पुलिस और छात्रों के बीच हुई हिंसा के बाद शुरू हुआ था। एक स्थानीय शख्स ने कहा कि वे (पुलिस) कैंपस के भीतर दाखिल हुए और उन्होंने पढ़ाई कर रहे छात्रों की पिटाई की। यदि जहां बच्चे पढ़ते हैं, वहां वे सुरक्षित नहीं हैं तो हम किस चीज को लेकर खुश हों? हम यहां अपना विरोध दर्ज कराने के लिए आए हैं।

जामिया की ही तरह, शाहीन बाग में भी लोगों ने नए साल का स्वागत राष्ट्रगान के साथ क्रांतिकारी गाने गाकर की। इस दौरान उनके हाथों में चाय, बिरयानी आदि थी। 

आधी रात के आसपास वहां लोग आने शुरू हो गए क्योंकि शहर के विभिन्न हिस्सों से लोग अपनी एकजुटता दिखाने के लिए शाहीन बाग पहुंचे थे। इनमें हर्ष मंडेर, कफील खान, योगेंद्र यादव और अभिनेता जीशान अय्यूब आदि शामिल थे। जेएनयू में पीएचडी की छात्रा नताशा उन लोगों में से थीं, जो अपने घर की नए साल की पार्टी छोड़कर शाहीन बाग विरोध प्रदर्शन में शामिल होने आई थीं।

उन्होंने कहा, 'जब प्रदर्शन शुरू हुए तो मैं दिल्ली में नहीं थी। मैं सोमवार को दिल्ली पहुंची और फिर यहां आई। यहां लोग काफी उत्साहित हैं। यहां हो रहा विरोध मुझे उम्मीद देता है।' वहीं, 18 वर्षीय सुमैया खान ने अपने गाल पर तिरंगा बनवा रखा था, उन्होंने बताया कि वे शाहीन बाग के विरोध प्रदर्शन में शामिल होने के लिए आती रहती हैं। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Tea biryani national anthem How anti CAA protesters in Shaheen Bagh welcomed 2020