ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशजेल में बंद दुर्दांत अपराधी भी जीत रहे चुनाव, संविधान निर्माताओं ने सोचा नहीं होगा; बोले SC के सीनियर वकील

जेल में बंद दुर्दांत अपराधी भी जीत रहे चुनाव, संविधान निर्माताओं ने सोचा नहीं होगा; बोले SC के सीनियर वकील

सुप्रीम कोर्ट के सीनियर अधिवक्ता विकास सिंह ने कहा कि आपराधिक छवि वाले लोगों की संसद जैसी जगहों में संख्या बढ़ रही है। संविधान निर्माताओं ने सोचा होगा कि ऐसे लोग संसद के लिए चुने जाएंगे।

जेल में बंद दुर्दांत अपराधी भी जीत रहे चुनाव, संविधान निर्माताओं ने सोचा नहीं होगा; बोले SC के सीनियर वकील
Gaurav Kalaएएनआई,नई दिल्लीThu, 06 Jun 2024 02:10 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव 2024 के परिणामों के बाद एनडीए 293 सीटों के साथ सरकार बनाने जा रही है। भाजपा 240 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। हालांकि खुद के बूते बहुमत का जादुई आंकड़ा छूने से चूक गई। संसदीय चुनाव में दो उम्मीदवार भी चुनाव जीतकर संसद पहुंचे हैं, जो आतंकवाद जैसे केस में जेल में बंद हैं। ऐसे लोगों के सांसद चुने जाने को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए सुप्रीम कोर्ट के सीनियर अधिवक्ता विकास सिंह ने कहा कि आपराधिक छवि वाले लोगों की संसद जैसी जगहों में संख्या बढ़ रही है। संविधान निर्माताओं ने भी नहीं सोचा होगा कि ऐसे लोग संसद के लिए चुने जाएंगे। इन चीजों पर रोक लगनी चाहिए। 

जानकारी के लिए बता दें कि जम्मू कश्मीर की बारामूला लोकसभा सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार राशिद शेख ने चुनाव जीता। वो टेरर फंडिंग केस में तिहाड़ जेल में बंद हैं। इसके अलावा पंजाब के खडूर साहिब लोकसभा सीट से खालिस्तानी समर्थक अमृतपाल सिंह ने लोकसभा चुनाव जीता है। अमृतपाल के घरवालों का कहना है कि वे अब उसकी रिहाई के प्रयास तेज करेंगे। फिलहाल दोनों जेल में बंद हैं।

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील विकास सिंह ने कहा, "आपराधिक आरोपों वाले लोगों की संख्या संसद जैसी जगहों पर बढ़ रही है। संविधान निर्माताओं ने कभी नहीं सोचा होगा कि ऐसे लोग संसद के लिए चुने जाएंगे।" एएनआई से बातचीत में उन्होंने कहा, "संविधान बनने के बाद जब हमारे संविधान को 79 साल हो गए। आपराधिक छवि वाले लोगों की संसद में संख्या बढ़ती जा रही है। कभी भी संविधान निर्माताओं ने सोचा नहीं होगा कि ऐसा होगा। मेरी नजर में ऐसा कोई विधेयक लाने की जरूरत है कि ऐसी स्थिति में सरकार को ऐसे कानून पास करने चाहिए ताकि ये लोग संसद न पहुंच पाए। ऐसे कानून की जरूरत है, जो भ्रष्टाचार, रेप, मर्डर, आतंकवाद जैसे गंभीर अपराधों के आरोप वाले लोगों को संसद तक पहुंचने ही न दे।"

वोट नहीं कर सकते पर चुनाव जीत सकते हैं
उन्होंने आगे कहा कि संविधान बनाने वालों ने कभी सोचा नहीं होगा कि जो लोग कभी वोट नहीं कर सकते लेकिन, जीत जरूर सकते हैं। हमारे संविधान की रोचक बात ये भी है कि एक संसदीय सीट को 60 दिनों से अधिक समय तक खाली नहीं रखा जा सकता। भले ही उन्होंने शपथ ले ली हो। संसद को हस्तक्षेप करना चाहिए और ऐसे लोगों को निर्वाचित नहीं होने देने चाहिए। साथ ही ऐसे मामलों में जहां उन्हें अपनी सीट खाली करनी पड़ती है, तब तक उन्हें दोबारा चुनाव लड़ने की अनुमति नहीं दी जाए, जब तक वो जेल में बंद हैं। तब तक वो अपने निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व भी नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर एक कानून लाना समय की मांग है।