ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशराष्ट्रपति की टिप्पणी के बाद हरकत में सुप्रीम कोर्ट, जमानत के बावजूद गरीबों की रिहाई न होने पर जेलों से रिपोर्ट मांगी

राष्ट्रपति की टिप्पणी के बाद हरकत में सुप्रीम कोर्ट, जमानत के बावजूद गरीबों की रिहाई न होने पर जेलों से रिपोर्ट मांगी

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने एक कार्यक्रम के दौरान गरीब कैदियों की रिहाई का मुद्दा उठाया था। उन्होंने कहा था कि ऐसे कई कैदी आज भी जेल में बंद है जो जमानत राशि देने में असमर्थ हैं।

राष्ट्रपति की टिप्पणी के बाद हरकत में सुप्रीम कोर्ट, जमानत के बावजूद गरीबों की रिहाई न होने पर जेलों से रिपोर्ट मांगी
Ashutosh Rayएजेंसी,नई दिल्लीTue, 29 Nov 2022 11:15 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू की ओर से जमानत के बावजूद छोटे-मोटे अपराधों में जेलों में बंद आदिवासियों की दुर्दशा को लेकर दिए गए भावुक भाषण के कुछ दिनों बाद सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को देश भर के जेल अधिकारियों को ऐसे कैदियों का ब्योरा 15 दिन के भीतर नालसा को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया, ताकि उनकी रिहाई के लिए एक राष्ट्रीय योजना तैयार की जा सके।

राष्ट्रपति ने 26 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट में अपने पहले संविधान दिवस संबोधन में झारखंड के अलावा अपने गृह राज्य ओडिशा के गरीब आदिवासियों की दुर्दशा पर प्रकाश डालते हुए कहा था कि जमानत राशि भरने करने के लिए पैसे की कमी के कारण वे जमानत मिलने के बावजूद जेल में हैं। अंग्रेजी में अपने लिखित भाषण से हटकर, मुर्मू ने हिंदी में बोलते हुए न्यायपालिका से गरीब आदिवासियों के लिए कुछ करने का आग्रह किया था। उन्होंने कहा था कि गंभीर अपराधों के आरोपी मुक्त हो जाते हैं, लेकिन इन गरीब कैदियों, जो हो सकता है किसी को थप्पड़ मारने के लिए जेल गए हों, को रिहा होने से पहले वर्षों जेल में बिताने पड़ते हैं।

राष्ट्रपति ने शेयर किया अपना अनुभव

जस्टिस एस के कौल चीफ जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ के साथ उस समय मंच पर बैठे थे जब राष्ट्रपति ने अपने ओडिशा में विधायक के रूप में और बाद में झारखंड की राज्यपाल के रूप में कई विचाराधीन कैदियों से मिलने का अपना अनुभव बताया। जस्टिस कौल और न्यायमूर्ति अभय एस ओका की पीठ ने मंगलवार को जेल अधिकारियों को ऐसे कैदियों का विवरण संबंधित राज्य सरकारों को प्रस्तुत करने का निर्देश दिया, जो 15 दिन के भीतर दस्तावेजों को राष्ट्रीय कानूनी सेवा प्राधिकरण (नालसा) को भेजेंगी।

सुप्रीम कोर्ट ने मांगा पूरा ब्योरा

पीठ ने कहा कि जेल अधिकारियों को विचाराधीन कैदियों के नाम, उनके खिलाफ आरोप, जमानत आदेश की तारीख, जमानत की किन शर्तों को पूरा नहीं किया गया और जमानत के आदेश के बाद उन्होंने जेल में कितना समय बिताया है, इस तरह के विवरण प्रस्तुत करने होंगे।