DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

PM मोदी-शाह कथित आचार संहिता उल्लंघन मामला: SC ने सुष्मिता देव की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार

new delhi  india - april 10  2019  a view of supreme court after the rafale case hearing  in new del

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) द्वारा आदर्श आचार संहिता के कथित उल्लंघन मामले में कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव (Sushmita Dev) की याचिका पर सुनवाई से इंकार कर दिया है।

इससे पहले कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट के सामने दावा किया कि चुनाव आयोग इसका विश्लेषण करने में नाकाम रहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के कथित नफरत वाले भाषण 'गलत आचरण हैं और इससे धार्मिक आधार पर वैमनस्य की भावना फैल रही है। देव ने एक हलफनामे में मोदी और शाह के खिलाफ आदर्श आचार संहिता उल्लंघन की शिकायतों पर चुनाव आयोग के विभिन्न आदेशों को शीर्ष न्यायालय के सामने रखा है। इसमें उन्होंने कहा है कि चुनाव आयोग ने कुछ शिकायतों का निपटारा करते हुए इस अदालत द्वारा निर्धारित कानून का सरासर उल्लंघन करते हुए बिना कोई कारण बताए गूढ़ तरीके से आदेश पारित किया ।

ये भी पढ़ें: राफेल अवमानना मामला: राहुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट से मांगी बिना शर्त माफी

भाषा के अनुसार, कांग्रेस पार्टी ने छह मई को पीएम मोदी की टिप्पणी के खिलाफ चुनाव आयोग के समक्ष एक नयी शिकायत दर्ज करायी थी। अदालत में दाखिल हलफनामे में देव ने कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी की टिप्पणी से पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की छवि धूमिल की गयी। शीर्ष अदालत ने देव की याचिका को आठ मई को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया था। 

वहीं, कोर्ट ने कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव से सोमवार को कहा था कि वह आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को क्लीन चिट देने संबंधी निर्वाचन आयोग के आदेशों को रिकॉर्ड पर लाएं।

ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव: PM मोदी को चुनाव आयोग से अब तक नौ मामलों में मिली क्लीन चिट

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:supreme court refuses to hear sushmita dev plea seeking action against pm and shah for alleged poll code violations