अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुप्रीम संकट: बार काउंसिल के 7 सदस्यों का दल करेगा सुप्रीम कोर्ट के जजों से मुलाकात

बार काउंसिल के चेयरमैन मनन कुमार मिश्रा

सुप्रीम कोर्ट के चार जज के भारत के मुख्य न्यायधीश के खिलाफ मीडिया में अपनी बात रखने के बाद बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने सात सदस्यों का एक प्रतिनिधि मंडल बनाने का फैसला किया है। यह प्रतिनिधि मंडल सुप्रीम कोर्ट जजों से मुलाकात करेगा। वहीं बार काउंसिल के चेयरमैन मनन कुमार मिश्रा ने सरकार के उस फैसला का स्वागत किया, जिसमें कहा गया है कि वह इस मामले में दखल नहीं देगी। साथ ही सरकार ने पार्टियों से इस मुद्दे पर राजनीति ना करने की अपील की है। शनिवार शाम को बैठक के बाद साथ चेयरमैन ने कहा कि काउंसिल इस मामले का जल्द से जल्द समाधान चाहती है। 

जस्टिस कुरियन बोले-न्यायपालिका में लोगों का भरोसा जीतने के लिए यह किया

वहीं दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट बार संघ ने एक प्रस्ताव पारित किया है कि सीजेआई के साथ चार वरिष्ठ न्यायाधीशों के मतभेद पर शीर्ष अदालत की पूर्ण पीठ विचार करे। बार एसोसिएशन ने कहा है, 'सभी जनहित याचिकाओं पर सीजेआई या कॉलेजियम में वरिष्ठ न्यायाधीशों को विचार करना चाहिए। सोमवार (15 जनवरी) को जो जनहित याचिकाएं सुनवाई के लिये सूचीबद्ध हैं उन्हें भी सीजेआई या कॉलेजियम के सदस्यों की अध्यक्षता वाली पीठों को सौंपा जाना चाहिए।' एससीबीए अध्यक्ष विकास सिंह ने कहा कि एक आपात बैठक में चार न्यायाधीशों और सीजेआई के बीच कथित मतभेदों को लेकर गहरी चिंता जताई गई। सिंह ने बताया, 'अगर जरूरत पड़ी तो हम इन घटनाक्रमों पर बातचीत के लिए सीजेआई और अन्य न्यायाधीशों से मुलाकात के लिए समय मांगेंगे। ये घटनाक्रम गंभीर चिंता का विषय हैं।'

सीजेआई को पत्रः हम बहुत दुःख और चिंता के साथ यह लिख रहे हैं...

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Supreme Court judges vs CJI: Bar Council form seven-member delegation to meets Supreme Court judges