Wednesday, January 19, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशअसम की पहली ट्रांसजेंडर जज की याचिका पर SC का केन्द्र सरकार को नोटिस, दावा 2 हजार ट्रांसजेंडर को NRC से निकाला

असम की पहली ट्रांसजेंडर जज की याचिका पर SC का केन्द्र सरकार को नोटिस, दावा 2 हजार ट्रांसजेंडर को NRC से निकाला

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीArun
Mon, 27 Jan 2020 06:43 PM
असम की पहली ट्रांसजेंडर जज की याचिका पर SC का केन्द्र सरकार को नोटिस, दावा 2 हजार ट्रांसजेंडर को NRC से निकाला

असम के नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (एनआरसी) की सूची से ट्रांसजेंडर को बाहर रखने पर ट्रांसजेंडर जज स्वाति बिधान बरूआ ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। असम की पहली ट्रांसजेंडर जज स्वाति बिधान बरूआ की याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र सरकार को नोटिस जारी किया है। 

मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे की खंडपीठ के समक्ष दाखिल याचिका में स्वाति ने दावा किया है कि असम के नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (एनआरसी) की सूची से लगभग 2,000 ट्रांसजेंडरों को बाहर किया गया है। इस याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार को नोटिस जारी कर जवाब दाखिल करने को कहा है। 

 

कौन है स्वाति बिधान बरूआ
साल 2012 तक स्वाति पुरुष थीं। इसके बाद उन्होंने सर्जरी करवाई और लड़के से लड़की बन गईं और अपना नाम स्वाति रख लिया। स्वाति ने बीकॉम के बाद लॉ की पढ़ाई की थी और वह असम में पैसों के लेन-देन से जुड़े मामलों की कोर्ट की जज हैं। स्वाति से पहले पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में ट्रांसजेडर को जज बनाए जा चुके हैं। वर्ष 2017 में पश्चिम बंगाल में जॉयता मंडल को सबसे पहले ट्रांसजेंडर जज बनाया गया था। वर्ष 2018 में महाराष्ट्र के नागपुर में ट्रांसजेंडर जज बी थी। 

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें