अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुंजवां आतंकी हमलाः आतंकियों की गोली से घायल महिला ने दिया बच्ची को जन्म, दोनों सुरक्षित 

Sunjuwan army camp

जम्मू-कश्मीर के सुंजवां आर्मी कैंप पर आतंकवादी हमले में एक एक गर्भवती महिला भी घायल हुई थी, जिसे सेना ने बचा लिया। इस महिला ने शनिवार को ही एक स्वस्थ्य बच्ची को जन्म दिया। 

महिला को आतंकवादी हमले के दौरान गोली लगी थी। इसके बाद उसे प्रसव पीड़ा होने लगी। डॉक्टरों ने शनिवार रात को सी-सेक्शन के जरिए बच्चे की डिलिवरी कराई। इसके बाद महिला ने कहा, 'मेरी और मेरी बच्ची की जान बचाने के लिए मैं सेना का शुक्रिया अदा करती हूं।' 


ऑपरेशन करने वाले सेना के डॉक्टर ने कहा, 'यह सामान्य केस नहीं था। एक गायनोकलॉजिस्ट होने के नाते हमारा प्रयास यही होता है कि महिला अपनी गोद में स्वस्थ बच्चे के साथ घर लौटे। यह हमारे अस्पताल और टीम के लिए काफी खुशी का मौका था। मरीज बहुत खुश थी।'


डॉक्टर ने कहा, 'शनिवार शाम अन्य घायल केसों के साथ ही यह चुनौतीपूर्ण केस हमारे सामने आया। इसमें महिला को गोली लगने के कारण समय पूर्व प्रसव हो रहा था। मुझे गर्व है कि हमारी टीम ने बहुत अच्छा काम किया। मां और बच्ची दोनों अब स्वस्थ हैं।' 

सुंजवां हमला: पुलिस बोली-पिछले साल सीमा पार कर घाटी में घुसे थे हमलावर

शनिवार को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने सुंजवान इलाके के आर्मी कैंप पर हमला किया था। इसमें सुरक्षाबल के पांच जवान शहीद हो गए थे। हमले में एक नागरिक की भी मौत हो गई थी। इसके अलावा गर्भवती महिला समेत 10 लोग इस हमले में घायल हुए थे। इसके बाद सुरक्षाबलों द्वारा किए गए सर्च ऑपरेशन में चार आतंकवादी मारे गए थे।

उरी के बाद बड़ा आतंकी हमलाःसुंजवां कैंप पहुंची NIA की टीम,5 जवान शहीद

मरने वालों की संख्या बढ़ी
सुंजवान मिलिट्री कैंप पर आतंकी हमले में मृतकों की संख्या नौ हो गई है। भारतीय सेना ने बताया कि रविवार को सर्च ऑपरेशन के दौरान दो जवानों और एक नागरिक का शव और मिला है। शनिवार को आर्मी की जवाबी फायरिंग में मारे गए जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकियों ने सेना के जवानों और नागरिकों पर हमला कर दिया था। इस हमले में दस अन्य लोग घायल हो गए थे। एक अधिकारी ने बताया कि हमलावर पाकिस्तानी नागरिक थे और पिछले साल से वे कश्मीर घाटी सक्रिय थे। इसके साथ ही बताया कि हमले के कुछ दिन पहले ही वे जम्मू आए थे। शुरुआती जांच के मुताबिक आतंकी कैंप की बाउंडरी में एक छेद के जरिए अंदर आए थे। बाउंड्री को मेटल की शीट्स से कवर किया हुआ था।

जम्मू-कश्मीर पुलिस प्रमुख एसपी वैद्य ने बताया कि 'हमारे पास मौजूद जानकारी के मुताबिक हमलावर पिछले साल जुलाई-अगस्त महीने में कश्मीर घाटी में सीमा पार से आए थे।' साथ ही उन्होंने बताया, 'हमें शक है कि वे घाटी से जम्मू हथियारों के साथ आने की रिस्क नहीं उठाएंगे। यह संभव हो सकता है कि कुछ स्थानीय समर्थकों ने उन्हें हथियार और विस्फोटक सामग्री उपलब्ध करवाई है। इसकी जांच की जा रही है।'

सुंजवां हमला: जानिए, सेना के जवानों पर हमले के खिलाफ बड़े ऑपरेशन

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sunjuwan attack injured pregnant woman saved by army delivers healthy baby in jammu kashmir