sumitra mahajan on ayodhya ram mandir janmabhoomi babri masjid supreme court verdict - Ayodhya Verdict Reactions: घर में छोटा दीप जला आंनद उत्सव मनाया जा सकता है: सुमित्रा महाजन DA Image
12 नबम्बर, 2019|11:53|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Ayodhya Verdict Reactions: घर में छोटा दीप जला आंनद उत्सव मनाया जा सकता है: सुमित्रा महाजन

वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा, ''यह आनंद का क्षण है, लेकिन इस आनंद का प्रदर्शन शांत भाव से किया जाना चाहिए। अपने घर में छोटा-सा दीपक जलाकर भी इस आनंद का उत्सव मनाया जा सकता है।"

sumitra mahajan photo ht

Ayodhya Ram Mandir-Babri Masjid verdict: अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को संतुलित करार देते हुए पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण की राह प्रशस्त होने के कारण यह आनंद का अवसर है। इस निर्णय को संयमित तरीके से अपनाया जाना चाहिए। 

सुमित्रा महाजन ने यहां संवाददाताओं से कहा, "उच्चतम न्यायालय ने अयोध्या मामले में संतुलित निर्णय सुनाया है। इसके बाद रामलला (विराजमान मूर्ति) को उस स्थान पर कानूनी अधिकार मिल गया है, जहां उनका जन्म हुआ था। अदालती निर्णय को हम सभी लोगों को पूरे संयम और शांति के साथ अपनाना चाहिए।" 

वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा, "(राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण की राह प्रशस्त होने के कारण) यह आनंद का क्षण है, लेकिन इस आनंद का प्रदर्शन शांत भाव से किया जाना चाहिए। अपने घर में छोटा-सा दीपक जलाकर भी इस आनंद का उत्सव मनाया जा सकता है।"

Ayodhya Verdict Reactions: अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से खुश हैं इकबाल अंसारी, अमित शाह ने भी दी यह प्रतिक्रिया

Ayodhya Verdict: अजमेर दरगाह के दीवान बोले- दुनिया के सामने एकता दिखाने का समय

उन्होंने कहा, "जन मानस को आज उसी आनंद की अनुभूति होनी चाहिए, जो अहसास एक मां को अपनी संतान को जन्म देने के बाद होता है।"  महाजन ने कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को वैकल्पिक स्थान पर पांच एकड़ भूमि आवंटित करने का शीर्ष न्यायालय का निर्णय भी सही है। 

बता दें कि कि सुप्रीम कोर्ट ने 500 साल से अधिक पुराने अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद का आज फैसला करते हुए विवादित भूमि श्रीराम जन्मभूमि न्यास को सौंपने का फैसला सुनाया। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद के निर्माण के लिए अयोध्या में ही उचित स्थान पर पांच एकड़ भूमि देने का निर्णय सुनाया।  

बता दें कि संविधान पीठ में न्यायमूर्ति गोगोई के अलावा न्यायमूर्ति शरद अरविंद बोबडे, न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर हैं। पीठ ने अपने एकमत फैसले में कहा है कि केन्द्र सरकार तीन से चार महीने के भीतर मंदिर निर्माण के लिए एक न्यास का गठन करे और उसके प्रबंधन तथा आवश्यक तैयारियों की व्यवस्था करे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sumitra mahajan on ayodhya ram mandir janmabhoomi babri masjid supreme court verdict