ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशएससी वर्ग की वैकेंसियों को जल्द भरेगी केंद्र सरकार, बैंकों से होगी शुरुआत; तीन महीने चलेगा अभियान

एससी वर्ग की वैकेंसियों को जल्द भरेगी केंद्र सरकार, बैंकों से होगी शुरुआत; तीन महीने चलेगा अभियान

केंद्र की मोदी सरकार अपने विभागों और सार्वजनिक क्षेत्र की फर्मों में एससी वर्ग की खाली पड़ी वैकेंसियों को जल्द से जल्द भरने के लिए निर्देश दे सकती है। अभियान 2 अक्टूबर से शुरू होकर 31 दिसंबर तक चलेगा।

एससी वर्ग की वैकेंसियों को जल्द भरेगी केंद्र सरकार, बैंकों से होगी शुरुआत; तीन महीने चलेगा अभियान
Gaurav Kalaराजीव जायसवाल, हिन्दुस्तान टाइम्स,नई दिल्लीThu, 29 Sep 2022 08:53 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

केंद्र सरकार अपने विभागों और सार्वजनिक क्षेत्र की फर्मों में अनुसूचित जाति (एससी) वर्ग की खाली पड़ी वैकेंसियों को जल्द भरने का आदेश दे सकती है। सूत्रों के मुताबिक, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को 31 दिसंबर तक इन पदों को भरने का निर्देश दिया हैं। मामले की जानकारी रखने वाले एक अधिकारी ने बताया कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (पीएसबी) में 2 अक्टूबर से भर्ती अभियान शुरू होने की उम्मीद है।

कार्मिक राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह के बयान का हवाला

इसी साल 20 जुलाई को लोकसभा में कार्मिक राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह के जवाब का हवाला देते हुए, अधिकारी ने बताया कि केंद्र सरकार के 10 मंत्रालयों और विभागों में 1 जनवरी, 2021 तक 18,132 आरक्षित रिक्तियों का बैकलॉग था। ये पद रक्षा, रेलवे, वित्तीय सेवाएं, पद, गृह मामले, परमाणु ऊर्जा, राजस्व, शिक्षा, रक्षा उत्पादन और आवास और शहरी मंत्रालयों से जुड़े हैं।

31 दिसंबर तक रिक्रूट अभियान

राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग (एनसीएससी) के अध्यक्ष विजय सांपला ने गुरुवार को जानकारी दी कि इस सप्ताह की शुरुआत में पीएसबी के प्रदर्शन की समीक्षा के दौरान, वित्त मंत्री ने बैंकों को समावेशी ऋण वितरण और एससी वर्ग के रिक्त पदों को भरने के लिए विशिष्ट समय सीमा दी है। उन्होंने कहा, “सभी बैंक (पीएसबी) अनुसूचित जातियों की बैकलॉग रिक्तियों को भरने के लिए 2 अक्टूबर से एक विशेष अभियान अभियान शुरू करेंगे। यह अभियान 31 दिसंबर तक पूरा किया जाना है।” 

एक अधिकारी का कहना है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में एससी से संबंधित रिक्तियों और पदोन्नतियों में 18,132 पदों में से लगभग 7-8% भरे जा सकते हैं। लेकिन, यह पहल अन्य विभागों के लिए एक नई प्रवृत्ति और उदाहरण स्थापित करेगी। अगर भारत को 2047 तक विकसित राष्ट्र बनाना है, तो 20-25 करोड़ आबादी के उत्थान को नजरअंदाज नहीं कर सकता।

वित्तीय सशक्तिकरण पर भी फोकस

विजय सांपला ने कहा कि सरकार का ध्यान एससी समुदाय के वित्तीय सशक्तिकरण पर भी है। उनमें से कई उद्यमी बन सकते हैं और बैंकों द्वारा सही ऋण सहायता हासिल करके नौकरी की तलाश करने के बजाय दूसरों को रोजगार देना शुरू कर सकते हैं।

स्वरोजगार से जोड़ने की कोशिश करें

इससे पहले मंगलवार की समीक्षा बैठक के बाद वित्त मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, सीतारमण ने बैंकों से कहा है कि वे कम संख्या में शेष बैकलॉग रिक्तियों को समयबद्ध तरीके से भरें और एससी वर्ग वित्तीय सहायता देने के लिए विभिन्न योजनाओं की जानकारी देकर स्वरोजगार से जोड़ने की कोशिश करें। यहां यह भी जानना जरूरी है कि एससी वर्ग से आने वाले लोगों का बैंकों और वित्तीय संस्थानों के योगदान लगभग 18% है।

आउटसोर्स नौकरियों का डिजिटल रिकॉर्ड
बैंकों को 1 अक्टूबर से आउटसोर्स की जा रही नौकरियों के लिए विशेष रूप से सफाई कर्मचारी जैसे पदों का डिजिटल रिकॉर्ड बनाने के लिए भी निर्देशित किया गया है। डीएफएस को 2 अक्टूबर से अनुसूचित जाति समुदाय से संबंधित सभी लंबित शिकायतों के निवारण के लिए एक विशेष अभियान शुरू करने का निर्देश दिया गया है।

epaper