DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बहादुरी का पुरस्कार पाने वाली पहली महिला बनीं मिंटी अग्रवाल, बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद पाक विमानों की पकड़ी थी घुसपैठ

squadron leader minty aggarwal gets bravery award

बालाकोट में एयरस्ट्राइक के बाद कश्मीर में पाक विमानों की घुसपैठ के दौरान फाइटर कंट्रोलर की जिम्मेदारी संभालने वालीं स्क्वाड्रन लीडर मिंटी अग्रवाल को युद्ध सेवा मेडल दिया जाएगा। इस बार बहादुरी पुरस्कार पाने वालों में मिंटी अकेली महिला हैं। 


वायुसेना के विंग कमांडर वर्धमान अभिनंदन ने पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया था। अभिनंदन की इस वीरता में उनकी सहयोगी महिला स्क्वॉड्रन लीडर मिंटी अग्रवाल ने भी अहम भूमिका निभाई थी। उस समय वह वायुसेना के रडार कंट्रोल स्टेशन पर तैनात थी। उन्होंने उस तनावपूर्ण वातावरण में अपनी भूमिका अच्छे से निभाई और परिस्थिति को समझदारी से संभाला। जब पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों ने उनके एयरबेस से उड़ान भरी और पीओके के रास्ते भारतीय वायुसीमा में प्रवेश करने के लिये आगे बढ़े, तभी उन्होंने श्रीनगर स्थित वायुसेना के एयरबेस को सूचित कर दिया, जहां विंग कमांडर अभिनंदन सहित कई भारतीय लड़ाकू विमान हाई अलर्ट पर थे।

फाइटर कंट्रोलर की भूमिका निभाने वाली स्क्वॉड्रन लीडर मिंटी अग्रवाल से सूचना मिलते ही अभिनंदन वर्तमान ने उड़ान भरी और अपनी वायुसीमा पर पहुंच गए थे। इस बीच, स्क्वॉड्रन लीडर मिंटी अग्रवाल अभिनंदन को हर पल पाकिस्तानी जेट की स्थिति के बारे में उन्हें अवगत कराती रही, जिससे अभिनंदन इस ऑपरेशन को सफलतापूर्वक पूरा करने में सफल हुए। मिंटी अग्रवाल पंजाब में वायुसेना के एक रडार कंट्रोल स्टेशन पर तैनात हैं। बता दें कि तब सुरक्षा कारणों से मिंटी अग्रवाल का नाम गुप्त रखा गया था, इसलिये कम ही लोग उनकी इस भूमिका के बारे में जानते हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Squadron Leader Minty Agarwal becomes First Lady to receive Bravery Award for intercepting pak fighter planes