DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › कन्हैया कुमार के कांग्रेस में जाने की अटकलों से CPI में खलबली, बने रहने को मांगा सचिव पद
देश

कन्हैया कुमार के कांग्रेस में जाने की अटकलों से CPI में खलबली, बने रहने को मांगा सचिव पद

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Mrinal Sinha
Tue, 28 Sep 2021 08:18 AM
कन्हैया कुमार के कांग्रेस में जाने की अटकलों से CPI में खलबली, बने रहने को मांगा सचिव पद

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (CPI) के नेता और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष, कन्हैया कुमार के कांग्रेस में जाने की अटकलें लग रही हैं। कहा जा रहा है कि वह मंगलवार को कांग्रेस जॉइन कर सकते हैं। लेकिन इससे उनकी पार्टी सीपीआई में खलबली मच गई है। मंगलवार, 28 सितंबर को गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवाणी के साथ कांग्रेस में शामिल होने की मीडिया में आई खबरों के बीच कन्हैया कुमार और उनकी पार्टी के बीच बेचैनी बढ़ती जा रही है।

भाकपा नेताओं ने एचटी को बताया कि पिछले सोमवार को पार्टी महासचिव डी राजा ने कन्हैया कुमार से अफवाहों का खंडन करने के लिए एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करने के लिए कहा था। लेकिन मंगलवार को, जब उनकी पार्टी के सहयोगी दिल्ली में सीपीआई मुख्यालय अजय भवन में इंतजार कर रहे थे, तब कुमार के फोन और मेसेज का जवाब तक नहीं दिया”।

पार्टी के एक अन्य नेता ने कहा, "हालांकि, अब तक, कन्हैया ने सार्वजनिक रूप से अपने बारे में अटकलों का ने तो खंडन किया है न ही कोई प्रतिक्रिया दी है। इधर, डी राजा ने कहा, "देखते हैं क्या होता है। सुन रहे हैं कि कुमार अपनी वर्तमान पार्टी से नाखुश हैं, जहां वह एक बड़ी भूमिका निभाना चाहते थे।

बता दें कि पिछले शनिवार को, गुजरात के विधायक और दलित नेता मेवाणी ने मीडिया के एक वर्ग से कहा कि वह और कुमार 28 सितंबर को कांग्रेस में शामिल होंगे। उन्होंने कहा था "28 सितंबर को, मैं कन्हैया कुमार के साथ कांग्रेस में शामिल हो जाऊंगा।" 

कहा जा रहा है कि रविवार को सीपीआई नेताओं के एक ग्रुप ने कन्हैया कुमार से बात की थी। इन नेताओं ने कन्हैया कुमार को पार्टी में रुकने की बात कही। पार्टी के एक नेता ने नाम उजागर न करने की शर्त पर कहा, 'इस बातचीत के दौरान कन्हैया कुमार ने कहा कि मुझे पार्टी का स्टेट चीफ बनाया जाना चाहिए। इसके अलावा शीर्ष चुनावी समिति का चेयरमैन बनाया जाना चाहिए, जो चुनावों में प्रत्याशियों का सलेक्शन करती है।' एक अन्य नेता ने कहा, 'किसी भी पार्टी में कोई इस तरह की मांग नहीं कर सकता है। यह वह पार्टी है, जो अपने लोगों के बारे में खुद फैसला लेती है और जिम्मेदारी देती है। यदि उनकी कोई महत्वाकांक्षा है तो टॉप अथॉरिटीज को बताना चाहिए।'

संबंधित खबरें