DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  G-7 समिट खत्म, दुनिया के अमीर देशों का कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में एकजुटता का वादा
देश

G-7 समिट खत्म, दुनिया के अमीर देशों का कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में एकजुटता का वादा

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Ashutosh Ray
Sun, 13 Jun 2021 07:50 PM
G-7 समिट खत्म, दुनिया के अमीर देशों का कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में एकजुटता का वादा

दुनिया के सबसे अमीर सात देशों के नेताओं का दो साल में पहला सम्मेलन रविवार को खत्म हो गया। इस सम्मेलन में कोरोना वायरस के खिलाफ दुनिया भर में टीकाकरण करने, जलवायु परिवर्तन को रोकने के लिए अपने हिस्से की बड़ी राशि और तकनीक देने के प्रभावशाली वादे किए गए। जी-7 सम्मेलन के एक सत्र को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी संबोधित किया। 

विदेश मंत्रालय ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकतंत्र, वैचारिक स्वतंत्रता और आजादी के लिए भारत की सभ्यतागत प्रतिबद्धता पर प्रकाश डाला। पीएम मोदी ने कहा कि भारत अधिनायकवाद, आतंकवाद और हिंसक अतिवाद से उत्पन्न खतरों से साझा मूल्यों की रक्षा के लिए जी-7 का स्वाभाविक सहयोगी है।

पीएम मोदी ने जी-7 शिखर सम्मेलन में मोदी ने खुले समाज में निहित कमजोरियों को रेखांकित किया, प्रौद्योगिकी कंपनियों से सुरक्षित साइबर क्षेत्र मुहैया कराने का आह्वान किया। विदेश मंत्रालय ने कहा कि नेताओं ने मुक्त, खुले और नियम आधारित हिंद-प्रशांत को लेकर प्रतिबद्धता जाहिर की और क्षेत्र में भागीदारों के साथ सहयोग करने का संकल्प लिया।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि हमारी भागीदारी जी-7 के भीतर समझ को दर्शाती है कि भारत की भूमिका के बिना सबसे बड़े वैश्विक संकट का समाधान संभव नहीं है। भारत स्वास्थ्य प्रशासन, टीकों तक पहुंच और जलवायु को लेकर कदम उठाने समेत प्रमुख मुद्दों पर जी-7, अतिथि भागीदारों के साथ गहराई से जुड़ा रहेगा। इसके साथ ही कोविड टीकों पर पेटेंट छूट के लिए भारत, दक्षिण अफ्रीका के प्रस्ताव पर समझौते के लिए जी-7 शिखर सम्मेलन के विचार-विमर्श में व्यापक समर्थन मिला।

गरीब देशों को मुहैया होंगे टीकें के 1 अरब खुराक
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा है कि सात अमीर देशों के समूह जी-7 ने दुनिया के गरीब देशों को कोविड-19 रोधी टीके की एक अरब खुराकें मुहैया कराने का संकल्प लिया है। दक्षिण-पश्चिम इंग्लैंड में रविवार को जी-7 के नेताओं के शिखर सम्मेलन के समापन पर जॉनसन ने कहा कि सीधे तौर पर अंतरराष्ट्रीय 'कोवैक्स पहल के जरिए टीकों की आपूर्ति की जाएगी।

संबंधित खबरें