DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपी की 14 सीटों पर सपा-बसपा गठबंधन बड़ा दांव खेलने की तैयारी में

 sp-bsp and rld alliance  photo  hindustan

SP-BSP alliance in 14 lok sabha seats in UP: यूपी के पश्चिम छोर पर बिछी बिसात पर बसपा रालोद गठबंधन बड़ा दांव खेलने की तैयारी में है। जाट, गुर्जर, राजपूत व दलित मुस्लिम वोटों की मिलीजुली ताकत के बूते मायावती, अखिलेश यादव व अजित सिंह ने यहां भाजपा का खेल बिगाड़ने का मंसूबा बांधा है। इसी वोट को भाजपा प्रखर राष्ट्रवाद के जरिए अपने पाले में करने की कोशिश में है। 

यहां बड़ा सवाल दलित व मुस्लिम वोटों का है। जिस पर कांग्रेस की भी निगाहें हैं। बसपा का इस इलाके में पहले से खासा प्रभाव रहा है। हाल ही मेें कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने भीम आर्मीप्रमुख दलित नेता चंद्रशेखर से मुलाकात की। इससे बसपा खेमे में काफी बेचैनी है। सोची समझी रणनीति के तहत मायावती ने गठबंधन की संयुक्त रैली का आगाज सहारनपुर के देवबंद से करने का निर्णय लिया है। यह इलाका मुस्लिम सियासत का गढ़ रहा है। सहारनपुर में कांग्रेस के इमरान मसूद का दबदबा है। पिछले चुनाव में उन्होंने भाजपा को जबरदस्त टक्कर दी और नंबर दो पर रहे। सपा बसपा रालोद गठबंधन का खास फोकस मुश्किल सीटों पर है। इन सीटों पर भाजपा ने ऐसा शानदार प्रदर्शन किया कि सपा-बसपा को कुल वोट भी भाजपा के आगे कम पड़ गया। इस तरह की 14 सीटें और हैं। लड़ाई मुश्किल है। 

 

BJP को हराने के लिए कांग्रेस और सपा-बसपा गठबंधन ने निकाला ये फॉर्मूला

साम्प्रदायिकता, लव जेहाद, पलायन, धर्मांतरण जैसे मुद्दे यहां वोटों का ध्रुवीकरण कराते हैं तो जातीय अस्मिता व गौरव जगाकर भी वोट लिये जाते हैं। जबकि गन्ना किसान, चीनी मिल, प्रथक हरित प्रदेश, उद्योगों की बदहाली और हाईकोर्ट की अलग बेंच जैसे सवाल कभी उभरते हैं तो कभी दूसरे मुद्दों के चलते पीछे रह जाते हैं। इस इलाके में मुस्लिम आबादी भी खूब है। अब यहां प्रखर राष्ट्रवाद का बोलबाला है। ऐसे में वोटरों के मिजाज को समझ पाना खासा मुश्किल है। 

 sp-bsp and rld alliance

किन सीटों पर किसका जोर चला
29 सीटें पश्चिमी यूपी में 
पश्चिमी यूपी में ब्रज, रुहेलखंड मिला कर कुल 29 लोकसभा सीटें आती हैं। इन सीटों में आगरा सु. बागपत, अलीगढ़, अमरोहा, आंवला, बरेली, बिजनौर, बदायूं, बुलंदशहर, गौतमबुद्धनगर, एटा, इटावा सु. फर्रुखाबाद, फिरोजाबाद मैनपुरी, मथुरा, मेरठ, मुजफ्फरनगर, गाजियाबाद, पीलीभीत, रामपुर, सहारनपुर, फतेहपुर सीकरी, शाहजहांपुर, मुरादाबाद, नगीना सु.,कैराना, कन्नौज, हाथरस सु. शामिल हैं। .

चार सीटें सपा ने जीती थीं
समाजवादी पार्टी (सपा) ने यहां से चार सीट कन्नौज, फिरोजाबाद, बदायूं, मैनपुरी सीटें जीती थीं। जबकि बसपा, रालोद एक भी सीट नहीं जीत पाये थे। 

कांग्रेस-'आप' में गठबंधन लगभग तय, दो दिन में हो सकती है घोषणा

15 सीटों पर भाजपा भारी पड़ी
जहां सपा-बसपा और रालोद के मिलेजुले वोट पर भी भारी पड़े भाजपा के वोट। इन सीटों पर पिछले चुनाव में ऐसा मोदी मैजिक चला कि सपा बसपा को मिलाजुला वोट पर भाजपा को मिला वोट भारी पड़ा। पश्चिमी यूपी की यह सीटें सहारनपुर, मेरठ, एटा, मुजफ्फरनगर, गाजियाबाद, बुलंदशहर, आगरा, मथुरा, हाथरस अलीगढ़ पीलीभीत कैराना फर्रुखाबाद इटावा व गौतमबुद्धनगर हैं। .

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:SP-BSP alliance preparing to play big bets in 14 lok sabha seats in UP