DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सपा-बसपा गठबंधन: जानें क्या बोलीं मायावती, पढ़ें 10 खास बातें

साझा प्रेस वार्ता के दौरान मायावती

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए सपा और बसपा ने हाथ मिला लिया है। सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती ने शनिवार को साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसका ऐलान किया। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मायावती ने कहा कि ये गठबंधन बीजेपी को फिर से केंद्र की सत्ता में आने से रोकेगा। उन्होंने ये भी बताया कि उन्होंने कांग्रेस को इस गठबंधन में शामिल क्यों नहीं किया है। 4 जनवरी को दिल्ली में हुई बैठक में हमने प्रदेश की सभी 80 लोकसभा सीटों पर गठबंधन कर लिया है, 38-38 सीटों पर सपा और बसपा चुनाव लड़ेंगे। अमेठी-रायबरेली कांग्रेस के लिए छोड़ी है। अन्य दो सीटें सहयोगियों के लिए छोड़ी हैं।

1- बसपा प्रमुख मायावती ने भाजपा को जातिवादी पार्टी बताया। कहा कि जनहित में गेस्ट हाउस कांड को किनारे रखते हुए गठबंधन किया। मायावती ने कहा कि देश की सवा सौ करोड़ जनता भाजपा की तानाशाही कार्यप्रणाली से परेशान है। चुनावी वादों की नाकामी से सभी परेशान है। सर्वसमाज को आदर देते हुए हम चुनावी गठबंधन कर रहे है।

2- जनहित व देशहित और जनहित को ध्यान में रखते हुए गठबंधन करने व एकजुट करने का फैसला किया है। हमारा गठबंधन राजनीतिक क्रांति लाएगा। 

3. तानाशाही रवैये से देश परेशान हैं। दलितों, किसानों, युवाओं, बेरोजगारों, महिलाओं, पिछड़ों, अल्पसंख्यक वर्गों का हम लोग प्रतिनिधित्व करते हैं। लोगों को हमसे काफी उम्मीदें हैं। 

SP and BSP alliance

4- अगर सपा और बसपा साथ आकर गठबंधन में चुनाव लड़ते हैं तो बीजेपी को फिर से सत्ता में आने से रोका जा सकता है। 

सपा-बसपा गठबंधन LIVE: मायावती ने कहा, हमारा गठबंधन बीजेपी को केंद्र में आने से रोक सकता है

5- समाजवादी पार्टी के साथ सन, 1993 में विधानसभा चुनावों में काशीराम जी और मुलायाम सिंह जी के गठबंधन में चुनाव लड़ा गया और सरकार बनाई गई थी, बीजेपी की जहरीली, सांप्रदायिक और जातिवादी राजनीतिक से प्रदेश को दूर रखने की मंशा ऐसा किया गया था, देश में दोबारा ऐसे हालातों के बीच बीएसपी ने एक बार फिर ऐसा करने की जरूरत महसूस की है 

6- ये नींद उड़ाने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस है। बीएसपी ने आगामी लोकसभा चुनावों में एक बार फिर समाजवादी पार्टी के साथ इस गठबंधन को करने का फैसला किया है 

7- जनविरोधी पार्टी को रोकने के लिए हम एक साथ आये है, उपचुनाव में इसकी शुरुआत हो चुकी थी।
 कांग्रेस की पिछले चुनाव में ज़मानत जब्त हो गई थी। नोटबंदी व जीएसटी का फैसला बिना सोचे समझे किया गया है।

8- कांग्रेस पर क्या बोलीं मायावती- 
मायावती ने कहा कि कांग्रेस को गठबंधन में शामिल न करने के पीछे कई कारण है। 1975 में कांग्रेस की घोषित इमेरजेंसी थी तो आज भाजपा राज में अघोषित इमरजेंसी है। गठबंधन में कांग्रेस के साथ का कोई खास फायदा नहीं।

9- आप जानते हैं कि देश की आजादी के बाद एक ही पार्टी ने काफी समय तक राज किया है, इनकी राजनीति में गरीबी का इजाफा हुआ है, बीजेपी और कांग्रेस की कार्यशैली और सोच एक ही जैसी नजर आती है। रक्षा डीलों में दोनों ही पार्टियों ने गड़बड़ी की हैं, पहले कांग्रेस ने बोफोर्स किया और अब बीजेपी जल्द ही राफेल की डील में गड़बड़ी के चलते देश की सत्ता से बाहर जाने वाली है। 

10- बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि यूपी में बीजेपी ने बेइमानी से सरकार बनाई है. जनविरोधी को सत्ता में आने से रोकेंगे। बीजेपी की अहंकारी सरकार से लोग परेशान है। जैसे हमने मिलकर उपचुनावों में बीजेपी को हराया है, उसी तरह हम लोकसभा चुनाव में बीजेपी को हराएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:SP BSP alliance for Lok Sabha elections: know what what Mayawati and akhilesh said 10 important points