ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशराम मंदिर समारोह में नहीं जाएंगे सोनिया गांधी और खरगे, बोले- यह तो RSS और भाजपा का इवेंट

राम मंदिर समारोह में नहीं जाएंगे सोनिया गांधी और खरगे, बोले- यह तो RSS और भाजपा का इवेंट

अयोध्या के राम मंदिर में 22 जनवरी को होने वाले कार्यक्रम में सोनिया गांधी और मल्लिकार्जुन खरगे शामिल नहीं होंगे। पार्टी ने धर्म को लोगों का व्यक्तिगत मामला बताते हुए निमंत्रण को अस्वीकार कर दिया है।

राम मंदिर समारोह में नहीं जाएंगे सोनिया गांधी और खरगे, बोले- यह तो RSS और भाजपा का इवेंट
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 10 Jan 2024 04:41 PM
ऐप पर पढ़ें

अयोध्या के राम मंदिर में 22 जनवरी को होने वाले राम लला के प्राण प्रतिष्ठा समारोह से कांग्रेस ने दूरी बना ली है। कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी और अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने न्योता ठुकरा दिया है। इसके अलावा, कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी भी राम मंदिर के कार्यक्रम में नहीं जाएंगे। कांग्रेस ने पूरे कार्यक्रम को आरएसएस और बीजेपी का इवेंट बताते हुए उसमें शामिल होने से अस्वीकार कर दिया है।

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि पिछले महीने अयोध्या में 22 जनवरी को होने जा रहे राम मंदिर कार्यक्रम को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष और राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खरगे, कांग्रेस संसदीय दल की अध्यक्ष सोनिया गांधी और लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी को न्योता दिया गया था। भगवान राम हमारे देश में लाखों-करोड़ों लोगों द्वारा पूजे जाते हैं। धर्म एक व्यक्तिगत मामला है। लेकिन आरएसएस/बीजेपी ने लंबे समय से अयोध्या में मंदिर को राजनीतिक प्रोजेक्ट बनाया है। बीजेपी और आरएसएस के नेताओं द्वारा अधूरे मंदिर का उद्घाटन किया जा रहा है, जोकि स्पष्ट रूप से चुनावी लाभ के लिए है। 2019 के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पालन करते हुए और भगवान राम का सम्मान करने वाले लाखों लोगों की भावनाओं का सम्मान करते हुए मल्लिकार्जुन खरगे, सोनिया गांधी और अधीर रंजन चौधरी ने सम्मानपूर्वक निमंत्रण को अस्वीकार कर दिया है जो स्पष्ट रूप से आरएसएस/भाजपा का कार्यक्रम है।

पिछले महीने कांग्रेस ने घोषणा की थी कि पार्टी के तीनों नेताओं को 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर उद्घाटन में शामिल होने के लिए निमंत्रण मिला है। पार्टी ने कहा था कि वह उचित समय पर अपने फैसले की घोषणा करेगी। अब बुधवार को अपने फैसले में कांग्रेस ने न्योता अस्वीकार कर दिया है। इससे पहले, जब कांग्रेस के तीनों नेताओं को न्योता मिला था, तब यह कयास लगाए जा रहे थे कि हो सकता हो कि वे कार्यक्रम का हिस्सा बनें। इस बारे में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कहा था कि सोनिया गांधी न्योते को लेकर काफी पॉजिटिव हैं। सिंह का कहना था कि या तो खुद सोनिया गांधी जाएंगी या फिर उनकी ओर से कोई डेलिगेशन वहां जाएगा। 

पीएम मोदी समेत छह हजार लोग होंगे शामिल
22 जनवरी को राम मंदिर में राम लला की प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम है। इस समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ समेत देश और दुनिया से छह हजार से ज्यादा लोग शामिल हो रहे हैं। इसमें पॉलिटिक्स, बॉलीवुड, खेल, बिजनेस और राम मंदिर आंदोलन से जुड़े हुए लोगों को न्योता भेजा गया है। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र द्वारा निमंत्रण भेजा जा रहा है। कई दशकों से अयोध्या में बाबरी मस्जिद और राम मंदिर को लेकर विवाद चल रहा था, जिसके बाद 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया था। उसके बाद से ही राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हो गया, जोकि अब भी जारी है। 16 जनवरी से अयोध्या में राम मंदिर से जुड़े आयोजन शुरू हो जाएंगे और फिर 22 जनवरी को राम लला की प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम होगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें