ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशपत्नी को पब्लिक में थप्पड़ मारना अपराध नहीं, आखिर ऐसा क्यों बोला हाईकोर्ट

पत्नी को पब्लिक में थप्पड़ मारना अपराध नहीं, आखिर ऐसा क्यों बोला हाईकोर्ट

Court News: वैवाहिक जीवन में कुछ विवाद चल रहा था। पत्नी का दावा है कि जब वह इस मामले में सुनवाई के लिए फैमिली कोर्ट पहुंची, तो अलग हो चुके पति ने उसे सार्वजनिक रूप से थप्पड़ मारकर घायल कर दिया।

पत्नी को पब्लिक में थप्पड़ मारना अपराध नहीं, आखिर ऐसा क्यों बोला हाईकोर्ट
Nisarg Dixitलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 23 Feb 2024 01:03 PM
ऐप पर पढ़ें

IPC यानी भारतीय दंड संहिता की धारा 354 के तहत पत्नी को सार्वजनिक रूप से थप्पड़ मारना, उसकी गरीमा को ठेस पहुंचाने का अपराध नहीं है। हाल ही में जम्मू और कश्मीर और लद्दाख उच्च न्यायालय ने एक व्यक्ति की याचिका पर सुनवाई कर रहा था। इस याचिका के जरिए ट्रायल कोर्ट की तरफ से इश्युएंस ऑफ प्रोसेस (तामील करने की प्रक्रिया) को चुनौती दी गई थी। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने ट्रायल कोर्ट के इश्युएंस ऑफ प्रोसेस को खारिज कर दिया। हालांकि, कार्यवाही को धारा 323 के तहत बरकरार रखा।

क्या था मामला
पति और पत्नी के बीच वैवाहिक जीवन में कुछ विवाद चल रहा था। पत्नी का दावा है कि जब वह इस मामले में सुनवाई के लिए फैमिली कोर्ट पहुंची, तो अलग हो चुके पति ने उसे सार्वजनिक रूप से थप्पड़ मारकर घायल कर दिया। इस घटना को लेकर पति के खिलाफ IPC की धारा 323 और 354 के तहत शिकायत दर्ज हो गई थी।

बाद में ट्रायल कोर्ट ने पति के खिलाफ कार्यवाही शुरू की, जिसे उच्च न्यायालय में चुनौती दी गई थी।

हाईकोर्ट में क्या हुआ
पति की याचिका पर सुनवाई कर रहे जस्टिस रजनीश ओसवाल ने कहा कि IPC की धारा 354 के तहत यह अपराध नहीं बनता है। हालांकि, कोर्ट ने यह भी साफ किया कि जानबूझकर किसी को नुकसान पहुंचाने के चलते यहां IPC की धारा 323 के तहत अपराध हो सकता है।

कोर्ट की तरफ से जारी आदेश के अनुसार, 'शिकायत में बताई गई बातों के अनुसार IPC की धारा 354 के तहत अपराध नहीं बनता है, लेकिन यह IPC की धारा 323 के तहत अपराध हो सकता है। क्योंकि प्रतिवादी ने साफतौर पर बताया है कि जब वह कार्यवाही में शामिल होने के लिए आई थी, तब उसे याचिकाकर्ता ने जनता के सामने पीटा और थप्पड़ मारा है।'

महिला की तरफ से पेश हुए वकील ने भी माना कि IPC की धारा 354 के तहत अपराध नहीं बनता है, लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि IPC की धारा 323 को यहां माना जा सकता है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें